The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

Monday, December 29, 2014

ber (berry) ,boir/बेर, boirkut(बोइरकुट)


Chhattisgarh Traditional Food: The eating habits of people from Chhattisgarh is inspired by nature and nature's product. Borkut is one among them.

No introduction is required to this beloved berry, which gives a sweet, sour and tangy taste.  One can find different size & shape of this berry, which is rich in Vit C. In Chhattisgarh, the Boirkut , which is dried & powdered version, as well as Boir khula & Boir pickle, are the preparation, which can last for the years. Some of us must have tasted mouthwatering boiled ber with salt.


छत्तीसगढ़ में हर कोई खट्टे ,मिट्ठे  बेर से परिचित है। बेरों के आकर अलग अलग होते हैं।  यह एक जंगली फल है, परन्तु हर कोई इसे चाव से खाता  है।  छत्तीसगढ़ में बेरों को सुखा  पीस कर बोइरकुट बनाते हैं ,जिसका उपयोग सूखे साल भर खाने या फिर सब्जियों में खटास लाने  के लिए डाला जाता है।  इसके अलावा बोईरखुला  बेरों के आचार बनाये जाते हैं। अगर इन  विटामिन सी से भरे बेरों को उबालकर नमक मिलाकर खाया जाए तोह  इनके स्वाद के क्या कहने। 

Tuesday, December 16, 2014

Chech bhajji / चेच भाजी


Ingredients: chech bhaji (white or  red),small badi or wadi (udad or mung lentils),red chili, garlic,salt

 
Pluck the leaves from the branches and thoroughly wash the chech bhaji 2-3 rounds in bucket full of water.
Heat the oil in a pan, put 2-3 red chilies , chopped garlic pieces and small udad or mung badi .

Add small amount of water in it and  transfer the washed leaves in the pan . Mix them well and sprinkle the salt as per taste.

 Now cover the pan  and cook  the chech bhaj for another 5-10 mins .In the process you will see that  lot of water will come out from the leaves , cook until all the water gets evaporated and  bhaji becomes dry.

 Chech bhaji is ready to serve . Chech bhaji is great combination with rice, daal or rice, kadi .Surprisingly in this traditional preparation, we do not fine chop the leaves.

 
Note : Among chhattisgarhiya, chech bhaji is one of the favorite bhajis.

चेच भाजी की पत्तियों को शाखाओं से अलग कर लें।  जब पत्तियां तोड़ ले उसके बाद अच्छी तरह से पानी में भिगो कर धो लें। अब एक कड़ाई में तेल गर्म करें।  उसमें लहसुन के कटे टुकड़े ,२-३ लाल मिर्च और छोटी मूंग या उड़द की बड़ियाँ डाल  कर भुने।  अब थोड़ा सा पानी डालें और पत्तियों को कड़ाई में डालें , स्वाद अनुसार नमक डालें और ढक्कन से ढक  दें।  भाजी से पानी निकलने लगेगा। भाजी को तब तक पकने दें जब तक सारा पानी वाष्पीकृत न हो जाए। जब भाजी सुख जाए तब  गैस बंद कर दें और गरमा गर्म चावल ,दाल के साथ परोसें। 

Thursday, November 6, 2014

Tiwra Daal / तिवरा दाल


Tiwra daal also known as laakhdi  is one of the most common pulses in Chhattisgarh. The most of the requirement of  the pulses (especially in rural)  are fulfilled by the Tiwra.

This high in potassium & nitrogen lentil is easy in cultivation & provides an alternative against  all the available costly pulses. Each and every part of this crop is used .

 Tiwara bhaaji (leaves) with its flower is very famous among all chhattisgariya.The tiwra seeds are prepared with tomato and the dish is known as batkar. Few of us must have relished roasted tiwra known as hora in our childhood. Tiwra dry sticks (kuna) are fed to animals which provides lots of nutrition.

 

Friday, October 31, 2014

karonda / करौंदा

Karonda (carrisa carandas) is very well known berry in Chhattisgarh .Karonda is sour in taste and most of us must have tasted  pickle and murabba (sweet & tangy) of it .Karonda is high in Iron ,calcium and vit c . Karonda is very good for digestive system and people use it for anemia treatment. In the forest of Chhattisgarh karonda is widely available and in the rainy season people from the rural and tribes collect it.

 

Wednesday, October 29, 2014

Bara (bada /black lentil dumplings)/ बरा (बड़ा )


Ingredient: udad daal (vigna mungo/black lentil,white lentil),green chili , ginger , curry leaves ,oil

 Sock the udad daal  for 8-10 hrs. and fine grind them in the grinder (or stone grinder for the traditional preparation).

When grinding add 2-3 green chilies, ginger, curry leaves , coriander leaves with the daal and make fine and thick paste out of it.

Now add salt , and cumin powder and mix them well for 10-15 mins . More you whip ,the paste would be  lighter and the bara will be tastier.

 Heat the oil in a pan and start putting small round shape or flat shape bara in the hot oil. Fry them until it gets golden brown.

 Serve the bara with green chili chutney .

 Note: Bara (bada) is very known dish across india . This protein rich preparation is prepared in almost all kind of celebration (from birth to death) in Chhattisgarh .  
 
८-१० घंटे भीगे हुए उड़द दाल को मिक्सी या सील बट्टे में अच्छे से पीस लें।  पिस्ते समय २- ३ हरी मिर्च , अदरक,करी पत्ता और धनिये  के पत्ते को काट कर मिलाये। अब पेस्ट में स्वादानुसार नमक ,जीरा पाउडर , मिलाकर अच्छे से फेंटे।  जितना अधिक फेंटेंगे उतना ही पेस्ट हल्का होगा और बरे स्वादिष्ट बनेंगे। 
अब कड़ाई में तेल ले कर अच्छे से गरम करेंगे।  तेल गरम होने पर गोल गोल या चपटे बारे दाल कर सुनहरा तल ले।  बरे को हरी चटनी के साथ परोसे। 
नोट : भारत में बरा (प्रायतः ) सभी प्रांतों में खाया जाता है।  प्रोटीन से भरा हुआ बरा (बड़ा )छत्तीसगढ़ में लगभग सभी छोटे बड़े  मौकों पर बनाया जाता है। 
 
 

 

Saturday, October 18, 2014

Pumpkin Leaves/कुम्हड़ा(कद्दू) भाजी


Ingredients: Pumpkin leaves,ridge gourd,gram lentil,garlic cloves,red chilies,oil,salt

 
Wash those green,soft and small pumpkin leaves (20-25 nos.).Pumpkin leaves are rough in texture so one has to be careful when removing the soft parts which are in between the veins.

 Again wash them thoroughly 3-4 times and cut into the small pieces.

 Take the ridge gourd (taroi or dodka) or snake guard(1-2) , peel the outer cover  and chop them too.

 In a cooker take small quantity of  gram lentil ,chopped ridge guard and fine cut pumpkin leaves.
 
 Add half cup of water and close the cooker cover . switch on the gas. wait till 2-3 whistle to come. Switch off the gas and let the cooker’s pressure come down.

 Heat the small quantity of  oil in a pan .Once oil is heated season with lots of chopped garlic, red chilies and transfer the mixture which is in the cooker .
 
Mix them well and add salt as per your taste.Cover it for sometime and cook until all the water from the mixture gets evaporated.

 Once leaves are dry you can serve with steamed rice and daal.

Note: In Chhattisgarh recipes from different kind of leaves are very common and each one of them has having  its own  benefits.Pumpkin leaves are rich in Iron , other required minerals and it is also easily available at the kitchen gardens .
 
कुम्हड़ा के मुलायम पत्तों (20-25) को ले कर अच्छे से धो लें। अब पत्तों की शिराओं के बीच  के मुलायम भाग को   अलग करते जाएँ।  और उनको  बारीक़ काट लें।  अब तरोई या ढोडका (1-2) को छीलकर साफ़ कर लें और उसे भी बारीक काट ले।  एक कुकर में थोडा  पहले से भीगा हुआ मुट्ठी भर चना दाल ले और कटी हुई भाजी एवं तरोई को थोड़ा पानी डाल  कर २-३ सिटी होने तक पकने दे।  अब एक कड़ाई में  थोड़ा सा तेल  गरम करे।  उसमें बारीक़ कटी लहसुन और २-३ लाल मिर्च का तड़का दें।  उसमें कुकर में  पकी हुई भाजी को डालें और अच्छे से मिलाएं।  स्वादानुसार नमक मिलाएं।  जब तक पूरा पानी वाष्पीकृत न हो जाए तब तक पकने दे अच्छे से सूखने पर गैस को बंद कर दे।  खाने पर गरम गर्म चावल  और दाल के साथ परोसें। 
 
नोट : छत्तीसगढ़ में भाजी खाने का प्रचलन है और अलग अलग तरह की कई भाजियों को खाया जाता है। कुम्हड़ा(कद्दू) भाजी आसानी से हर घर में  उपलब्ध  होती है और खनिज  लवण से भरपूर होती है। 
 

 

 

 

 

 

Monday, September 22, 2014

Spring onion leaves /प्याज़ भाजी


Ingredient: Spring onion leaves, garlic, tomato, gram pulses,red chilies, salt, water, oil

 
In first step you have to wash the leaves 4-5 times carefully.

Separate the roots with small onion & fine chop the leaves. If you want to add the small onions, chop them carefully too.

Take 7-8 fine chopped garlic cloves and cut one tomato into the pieces.

Heat the oil (small quantity) in a pan .
Once it is properly heated, add chopped garlic, red chilies (1-2), gram lentils (soaked in water for 10 minutes) , mix the tomato pieces and let it cook for few secs.

Add small portion of water in it. Transfer all the chopped spring onion leaves and spread the half a tea spoon salt above it ,cover and cook it for 10 mins in medium flame.

when all the water will vaporized from the pan  , mix them well and cook the leaves for  2-5 min more, until it gives dry texture.
Spring onion leaves are ready to serve with hot rice and daal.

Note : In Chhattisgarh, the dish of spring onion leaves is a most common additional preparation with a main vegetable dish. This leaf is very nutritious and filled with lot of minerals.

सबसे पहले प्याज़ के पत्तों को अच्छी तरह से धोएँ।  जड़ और छोटे प्याज को काट कर अलग कर लें।  और पत्तों को बारीक काट लें।  अगर आप छोटे प्याज को डालना चाहते हैं तोह उनको भी अच्छे से धो कर बारीक काट ले। अब एक कड़ाई में तेल गरम करें।  उसमें लहसुन के कटे हुए टुकड़े , लाल मिर्च, और १० मिनट पहले भीगी हुई चने की दाल को डाल  दे फिर टमाटर के कटे हुए टुकड़ों को मिला कर पकने दें। आधा कप से भी कम पानी डाल कर उबलने दें फिर भाजी को डालें और आधा चम्मच नमक छिड़क कर ढक्कन लगा कर पकने दें । 
थोड़ी देर बाद भाजी में से पानी बहार आने लगेगा और १० मिनट तक मद्धम आंच में  पूरा वाष्पीकृत को जाएगा।  उसके बाद भाजी को  अच्छे से  मिलाएं  और सूखते तक पकाएं।  अब गैस बंद कर दे।  गरमा गर्म भाजी का मजा चांवल के साथ ले। 

नोट: छत्तीसगढ़ में प्रायतः सभी घरों में प्याज़ भाजी बनायीं जाती है।  एक मुख्य सब्जी के साथ भाजी खाने का प्रचलन है।  प्याज़ भाजी बहुत स्वास्थवर्धक और खनिज लवण से भरपूर है। 

Friday, September 12, 2014

Kewachaniya(Rice flour Laddoo)/ केवचनीया (चांवल आटा लड्डू)


Ingredient: Rice flour, jiggery, ghee, cardmom, milk,

 
Heat the ghee in pan and roast the rice flour till it gets light brown.

Take a different utensil and boil the small quantity of water .

Add gud or jiggery,4-5 cardamom in the boiling water and let them get concentrated.

Now check the concentration of the mixture with the 2 fingers.

When it starts giving 2 treads switch off the flame.

In the next step ,you have to start mixing the roasted rice powder with the jiggery (gud) syrup.

You will find difficulties during mixing process because of the nature of rice powder ,which soaks the syrup very fast.

In the next procedure ,you can add raw milk/cold milk in the mixture and heat it for few seconds.

Start making the small balls out of the mixture .for the better look and healthier version you can stick dry fruits on the top of it.

 Note : Kewachaniya is the rarest form of the laddoo .Prepred by rice flour , jiggery and milk make it very healthy .It is full of energy which is mostly given to people does hard work ,kids or pregnant women.
एक कड़ाई में घी गरम करें।  उसमें चांवल का आटा अच्छी तरह से भुने जब तक वह हल्का भूरा  न हो जाए। दूसरे बर्तन में थोड़ा पानी ले कर उबालें और स्वादानुसार गुड  और ४-५ इलाइची  डालकर गर्म करें। घोल को थोड़ा गाड़ा होने दें।  उँगलियों से घोल को छू कर देखें , जब ये दो तार बनाने लगे तो गैस  दें।  अब गुड  की चासनी में भुने हुए  चांवल आटे को  डालें और  अच्छे से मिलाएं ,मिलाते समय थोड़ी दिक्कत  हो सकती है क्योंकि चांवल  आटा जल्दी चासनी सोखता है।  इस मिश्रण में थोड़ा ठंडा दूध  मिलाएं और कुछ सेकंड के लिए गरम करे। अब गैस बंद कर  थोड़ा दूध या पानी लगाकर गोल गोल लड्डू बना ले। अपने मन पसंद मेवे चिपका कर लड्डू  को  स्वादिष्ट बनायें।

नोट:  केवचनीया  बहुत ही पारम्परिक लड्डू है जो की बहुत कम लोगों द्वारा बनाया जाता है।  चांवल,घी,गुड और दूध से बना होने  के कारण बहुत ताकतवर होता है। ज्यादा काम करने वालों,बच्चों और गर्भवती स्त्रियों के लिए फायदे मंद है।  

Wednesday, August 20, 2014

Bidiya / बिडिया

Ingredients : Rice,wheat flour,water,sugar,oil
 
Cook the rice in boiling water.
 After few minutes when rice gets concentrated drained all the water from the rice.

Take the wheat flour and mix the rice water in it start  making the dough out of it. If required you can add the normal water in some amount.

Leave the dough for some time.

Now  make small balls from the dough and start rolling them in your hand.

Cut the rolled dough into the rectangular pieces and try to join both the corners of  it.

Heat the oil in a pan and deep fry those prepared folded pieces till it turns brown.

Now start the preparation for thick sugar syrup .

Take small quantity of water  in a pan and add the double amount of sugar. Let it boil and check the syrup after some times .Once 2-3 strings start coming then switch off the flame.

Dip the fried rectangular pieces into the sugar syrup and mix them well.

Leave it for sometimes. This traditional chhattisgarhiya sweet Dish Bidiya is ready to serve.

 
Note: In Chhattisgarh most of the dishes are prepared by the grains,which are highly nutritious and energetic.Hand full of them can work as quick energy bars.  

सबसे पहले एक पतीले में चावल उबाल लें। जब चावल उबल जाए तब इसका पानी अलग कर लें। उबले हुए चावल के पानी (माड़ ) को ठंडा होने दे।  एक बड़े थाल (परात)में गेहूं का आटा लें और चावल के पानी के साथ अच्छे से गूँथ लें।  अगर ज़रुरत पड़े तोह थोड़ा साधारण पानी मिला सकते हैं।  अब इसे थोड़ी देर छोड़ दे।  अब आटे छोटी लोइयां बनायें।  इनको पाटे पर पतला बेल लें।  अब बेली हुए रोटी को लम्बे टुकड़ों में काटे और  अंततः  आयताकार टुकड़ों में काट लें।  टुकड़ों के दोनों सिरो को जोड़ लें।  अब इनको गरम तेल में  भूरा होते  तक सेंक लें। एक दूसरे बर्तन में शक्कर की चासनी बनाने के लिए पानी उबाले और दुगने मात्र में शक्कर ले कर उबालें।  जब २-३ तार बनाने लगे तब बंद कर दें और तले हुए टुकड़ों को इसमें डुबाये और चासनी को अच्छी तरह से मिला दें।  अब थोड़े देर छोड़ दें जब ठंडा  हो जाए तो बिडिया को  सभी को  खिलाएं। 

नोट : छत्तीसगढ़ में ज्यादातर खाने की चीज़ें चावल,गेंहूँ या दालों से बनती है।  जो की ऊर्जा से भरे हुए और स्वास्थयप्रद होते हैं। अगर आप भूखे हैं तोह ४-५ बिडिया किसी भी समय आपके लिए ताकत का स्त्रोत बन सकते हैं।

 

Tuesday, July 29, 2014

Kochai/arbi/colacacia paak (pan cake)/अरबी/कोचई पाक

Ingredients : kochai/arbi/colacacia, ghee(clarified butter),
curd,water,sugar,cardmom,garter , vegetable peeler

Neatly wash the kochai/arbi/colacacia  and make sure that the soil around it gets clean.

Remove/Peel the upper brown cover of the kochai/ arbi/colacacia  with the help of vegetable peeler.

Now finely grate each one of them.

Once grating is completed mix it with small quantity of curd and leave it for few hrs.

after few hrs start heating ghee (clarified butter)in a pan .

make the flat (pan cake) structure out of the kochai /arbi/colacacia  mix and fry in the ghee till it gets light brown and crispy.

Now we will prepare the slightly thick sugar syrup.
 
Take water in a pan and add double amount of  sugar let it boil for some time .

Add cardamom for the enhancement of the taste.

 Once syrup starts getting thicker dip the prepared fried kochai/ arbi/colacacia  pan cake in it and leave for some time.

Now transfer these sugar coated kochai/ arbi/colacacia pan cake sweets to the plate.

I am sure during the transfer process, you wish to have one or two   J

 Note: This vegetable sweet dish is not very known ,very rarely you will find the existence of kochai/ arbi/colacacia pan sweets. Though it's calorie rich but once in a while you can feed to kids .I have seen this preparation during fast in navdurga as Prasad.   
 
कोचई या अरबी को अच्छी तरह से धो लें ताकि उसके ऊपर की मिटटी पूरी तरह से साफ़ हो जाए।  अब छिलनी से उसके ऊपरी छिलके को निकाल लेंवे।  अब छिली हुई अरबी को कद्दूकस कर लें और उसमें थोड़ा सा दही मिलकर थोड़े देर के लिए छोड़ दे।  अब एक कड़ाई में घी गरम करें और छोटे छोटे चपटे चपटे कोचई या अरबी के मिश्रण को आकार दे कर भूरा होते तक ताल लेंवे।  एक दूसरे बरतन में पानी लें और दुगना शक्कर ले कर चासनी बनाने के लिए गरम करें,स्वाद के लिए इलाइची डाला जा सकता है ।  जब चासनी थोड़ी गाड़ी हो तब  कोचई या अरबी के तले हुए चपटे टुकड़ों को इसमें डूबा दें।  थोड़ी देर बाद इसे प्लेट में डालें और ठंडा होने दें। चाहें तोह एक -दो तुरंत खा कर देख लेन. :)

नोटे : ये अरबी/कोचई का पाक  बहुत कम ही बनाई जाती है ज्यादातर त्यौहार के समय या नवदुर्गा उपवास के समय पर बनायीं जाती।  ये मिठाई कैलोरी वाली जरूर है पर कभी कभी आप बच्चों के लिए बना सकते हैं।


 


 

Wednesday, June 25, 2014

Bamboo chicken / बाँस चिकन

Ingredients : Chicken pieces , dry coriander seeds, dry red chili, cumin seeds, ginger, garlic cloves, salt, turmeric powder, curd, tomato sauce, butter, wheat flour, water, bamboo shoot, stone grinder
 
Cut the chicken in big pieces and clean those chicken pieces nicely.
 
Take dry coriander seeds, garlic cloves ,dry red chili ,salt ,cumin seeds ,ginger on the stone and fine grind them with the help of small stone (traditional method).
 
Put the pan on the flame and melt the butter in it ,once butter is hot add the prepared mixture and add turmeric powder and cook for some time .
 
once it turns red add small quantity of curd and tomato sauce, let it cook for some time.
Now add chicken pieces in it and mix them well with the preparations
 
Now take hollow thick bamboo shoot (1feet ) and fill it with the prepared chicken .
 
Take the wheat flour and prepare nice dough with the help of water. 
 
In the next step ,close the bamboo mouth with the dough.
 
Now put the bamboo shoot on the earthen pot  and completely cover it with the wood /coal or cow dung , lit the fire.
 
When bamboo is completely burnt take away the shoot from the fire and remove the bamboo ashes. 
This traditional chicken recipe is ready to  relish .
 
बड़े चिकन के टुकड़ों को अच्छी तरह से धोकर साफ़ कर लें। अब सील बट्टे पर सूखे धनिये के बीज ,खडी लाल मिर्च,खड़ा जीरा,लहसुन की फांक,अदरक के टुकड़े और नमक  को अच्छे से पीस लें। अब एक कड़ाई को गरम करें और  मक्खन को पिघलने दें जब मक्खन गरम हो जाए तो पिसे हुए मसाले को अच्छी तरह से भुने और उसमें हल्दी पाउडर मिलाएं। थोड़ी देर बाद दही और टमाटर सॉस मिलाकर  पकाएं। जब अच्छी तरह से भून  जाए तब चिकन के टुकड़ों को डाल  कर थोड़ी देर पकाएं। 
अब एक बाँस  का मोटा पोला (१ फीट ) तना ले।  उसमें तैयार चिकन भरे और तने का मुह बंद करने के लिए  गेंहूँ का आटा  गूँथ  ले। अब आटे  को तने  के  दोनों तरफ लगा कर उसे एक मिटटी के बरतन में रखें और लकड़ी /कोयला / छेना से ढँक दें और आग सुलगाएं।  जब तना बहार से जल हुआ दिखे तब उसे बहार निकाल लें।  उसकी राख साफ़ कर चिकन को बहार निकालें।  
गरमा गरम बांस में पका हुआ स्वादिस्ट  पारम्परिक चिकन परोसने के लिए तैयार है। 
 
 

Thursday, June 5, 2014

Pooran Ladoo / पूरन लड्डू


Ingredients: Wheat flour,gram flour,jiggery,suger,cardamom powder,oil,suger (choice),water
 
 
Take gram flour and prepare thin paste out of it.
Heat the oil in a pan and make bundi (small balls) from the thin paste with the help of  sieving plate or spoon.
Take the different pan, roast the wheat flour in ghee till it turns light brown and add the powdered suger or jiggery (less quantity) in it .
 Turn off the flame. Let the mixture gets the cold.
Take a pan and prepare jiggery syrup (bit thicker) add pinch of cardamom powder  ,once syrup is ready ,lets soak the prepare bundi in it.

The real work starts now where firstly you have to make ladoos from the wheat flour preparation secondly  you have to stick sweet bundis around the wheat ladoo ,it depends whether you are sticking bundis with the help of both hands or simply rolling the ladoos on the sweet bundis.

Pooran Ladoo is ready to serve your hard work will paid off when one can enjoy the crunchy outer layer with soft mouth dissolving inner portion.

 
Note during the procedure wheat ladoo can break few a times so one has to have patience for the very traditional but healthy sweet.

एक बर्तन में बेसन का पतला पेस्ट बना लें।  अब एक कड़ाई में तेल गरम करें और छननी या झारे की मदद से बूंदी तल ले।  दूसरे  कड़ाई में घी डाल कर आटे को अच्छी तरह से भून लें और स्वाद अनुसार पीसी शक्कर या गुड थोड़ी कम मात्रा में   मिलाएं।  गैस बंद कर थोड़ा ठंडा होने दे।  अब एक पतीला लें और उसमें गुड की गाडी चासनी बनायें  और स्वाद के लिए इलायची पाउडर मिलाएं अब  तैयार बूंदी को उसमें डूबा दें ।
आटे के मिश्रण से अब गोल लड्डू तैयार करें। लड्डू के चारो तरफ बूंदी की घनी परत चढ़ाएं। परत किस तरह चिपकनी है ये आपकी सुविधा पर निर्भर करता है चाहे तो आप दोनों हाथो से चिपकाये या फिर लड्डू को बूंदी पर घुमाएं।आपके पूरन  लड्डू तैयार हैं। 
ये काम आपको थोड़ा परेशानी दे सकता है।  पर जब किसी के मुह में कुरमुरी मीठी बूंदी के साथ आटे के मुलायम लड्डू जाएंगे तब आपको अपनी मेहनत पर अजीब सी खुशी  होगी। 


Friday, February 7, 2014

Khaja/खाजा



Ingredients: Maida,oil,water,sugar,cardmom
Take  maida and sieve it. Add oil or ghee for the crispy preparation, add hot water and make soft dough out of it.
leave the preparation for 1-2 hrs.
 Now start rolling the small balls of dough and prepare big, thin and round chapatti out of it .
now cut the chapatti in horizontally into 4-5 columns and fold 3-4 times to each columns .
once its ready take a pan and heat the oil on the flame. When, oil is hot start frying those folds till it gets brown.
Once folds are fried start work for  thick sugar syrup .
you have to take equal amount of water and sugar with 3-4 cardamom, let it heat till both get mingle well .
once syrup is thick enough turn off the heat and start spreading syrup on the brown folds with the help of spoon.
once syrup get settled on the folds you can serve mouth watering khaja which will melt inside your guest's mouth  J
 
एक बर्तन में आवशक्ता अनुसार मैदा लें और  मोअन के लिए तेल या घी मिलाकर अच्छे से गरम पानी डाल कर गूँथ लें।  गुंथे हुए मैदा को १-२ घंटे के लिए छोड़ दें। छोटे छोटे  मैदे  की गोलियां बनाकर रखे और उन्हें पतली पतली बड़ी चपातियां बनायें।  चपाती को ४-५ स्तंभो में काट लें और हर स्तंभ को २-३ बार मोड़ लें। अब एक कड़ाई में तेल गरम करें और बने हुए खाजे को हलके भूरे होने तक तल लें।  जब तलने का काम खत्म  हो जाए तब शक्कर की गाढ़ी चासनी बनायें इसके लिए सामान मात्रा में पानी , शक्कर और ३-४ इलाइची लें   तब तक पकाये जब तक दोनों अच्छी तरह से घुल कर गाढ़ी चासनी न बना ले. गरम चासनी को खाजे के ऊपर चम्मस कि सहायत से फैलाएं।  अब खाजे कि चासनी को सुखने दें। जब सुख जाए तब मुलायम खुसखुसे खाजे को परोसें और मुह में घुलने का मज़ा लें J