The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

Thursday, December 7, 2017

Mashed Brinjal (eggplant)/ baigan ka bharta/बैगन का भरता


Ingredients : Brinjal (eggplant),2 onion , 2 tomatoes fine chop , 5-6 chopped garlic cloves  ,1-2 green chili (chopped or full),
mustard seeds ,methi seeds , curry leaves, garlic pieces, salt,turmeric powder, coriander powder ,green coriander,oil

Method : 

Take a big size brinjal (eggplant) and wash it  . After washing ,give a vertical half cut on the brinjal to check that, it should not be rotten from inside.

Now put the brinjal (eggplant) on the flame directly on stove /wood or coal  (some people put a layer of oil on the outer violet skin before putting on the flame.

In between  change the sides as it should be roast from all the sides.
Once color gets changed (dark brown ) and the size of brinjal shrink significantly, switch off the flame .Let brinjal cold for some time.

Once brinjal(eggplant) cold, peel off the outer skin gently . One can see the inside off white color soft roasted part .
Take one plate and mash soft pulp portion nicely.

Take 2 onion and 2 tomatoes fine chop them. Take 5-6 garlic cloves and chop them ,1-2 green chili (chopped or full)

Take a pan and put it on burner .Pour 2-3 spoons of oil of your choice. 

Once oil is heated enough put mustard seeds ,methi seeds (if you feel acidic after eating brinjal ) curry leaves, garlic pieces, chilies and  add onions in it .

Once onion turns golden brown add tomatoes with it and cook for some more time .Once tomatoes are cooked and soft,  add salt,turmeric powder, coriander powder mix them well let itcook for 2 mins. 
Add mashed brinjal(eggplant) in the mixture and mix them well together , cook for 5-6 minutes more . Finally add chopped green coriander.


Bharta is ready .

Note : Brinjal (eggplant) is used in cooking in most of the places in India as chhattisgarh is not different from it . In chattisgarh brinjal is grown at home . Brinjal is a vegetable which is having many nutrients and health related benefits.

बैगन का भरता बनाने की विधि :

एक बड़े आकार का बैगन /भटा लीजिये और उसे अच्छी तरह से धों लें।  अब भटे /बैगन को बीच से लम्बा चीरा लगाकर देख लें कि यह अन्दर से ख़राब तो नहीं है।  अब  इसे मध्यम आंच पर स्टोव पर रखें और भुनने दें।  बीच में बीच में बैगन को पलटते रहें ताकि बैगन सभी तरफ से अच्छी तरह से भून जाये।  जब बैगन भूनने पर मुलायम हो जाये  और आकार में पिचक जाए  तब स्टोव को बंद कर कर दें।  अब इसे ठंडा होने दें। थोड़ी देर बाद जब यह ठंडा हो जाये तब इसकी ऊपरी भूनी हुई परत निकाल कर इसे अच्छी तरह से  उँगलियों से मैश कर लें।  और इसे अलग रख दें।

अब २ प्याज़ और २ टमाटर लेकर बारीक़ काट लें। 5-6 लहसून की कलियाँ  छीलकर उन्हें भी बारीक़ काट लें। १-२ हरी मिर्ची लेकर काट लें और थोड़ा कड़ी पत्ता धो कर रखें।  
अब एक कड़ाई में तेल गरम करें और  उसमें सरसों के दाने ,मेथी के  दाने (पाचक के रूप में ), कढ़ी  पत्ते ,लहसून के बारीक़ टुकड़े ,मिर्ची डाल  कर तड़का दें और फिर उसमें कटी प्याज़ डाल कर सुनहरा होने तक भुने। अब उसमें टमाटर के कटे टुकड़ें डालें और थोड़ी देर पकने दें।  अब उसमें स्वादानुसार नमक,पीसी हल्दी ,पीसी धनिया डाल कर अच्छे से मिलाएं और थोड़ी देर पकने दें।  अब मैश किये हुआ भुने बैगन को इस मिश्रण में मिलाएं और थोड़ी देर पकने दें।   और इसमें बारीक़ कटी हरी धनिया मिलाएं।  गैस बंद कर दें।  बैगन का भरता तैयार है।

नोट : बैगन प्रायतः भारत के सभी प्रांतों में खाने में प्रयोग किया जाता है।  छत्तीसगढ़ में भी यह पाक कला का अभिन्न हिस्सा है।  घरों में इसे उगाया भी जाता है।  बैगन  स्वास्थवर्धक तत्वों से भरपूर होता है  और कई बीमारियों को ठीक करने  में सहायक की भूमिका निभाता है।  

Thursday, November 23, 2017

Ghee (Clarified butter)/ घी

The traditional process of making ghee at home.

Things required : Malai, wooden stick,pan ,strainer,pan 

Preparation Time : 30 minutes


1.Collect malai (cream -yellow layer of the Milk which sceamed off) for few days and keep it in fridge.
 दूध से मलाई निकल कर कुछ दिनों तक इकठ्ठा करें और फ्रिज में रखें।


 










2.Take malai in big or deep utensil and stir the Malai with the help of wooden stick (Mathani) for 5-10 minutes.
अब मलाई को किसी चौड़े या गहरे बर्तन में लेकर लकड़ी की मथनी से ५-१० मिनट तक मथें। 












3. Because of stiring, malai will start getting thinner in consistency (less concentrated).
  मथने के कारण मलाई की अवस्था थोड़ी पतली होने लगती है। 












4. slowely the fat part (butter) of the malai start segregetting from the water or lequid portion of it.
   धीरे धीरे मलाई का मक्खन वाला हिस्सा पानी वाले  हिस्से से मथने के कारण अलग होते जाता है। 












5. Collect all the butter in one pan.Now take some water and  pour one time on butter and let the water drain . 
    एक दूसरे बर्तन में मक्खन को इकठ्ठा कर लें और एक बार पानी से इसे धों लें। 











6. Now start heating the butter in medium flme,sloweli it will start melting 
    अब मक्खन को मध्यम आंच में गर्म करें। धीरे धीरे मक्ख़न पिघलने लगता है।  












7.  butter reaches its boiling pont, where all the available water gets evoperated from it.
     मक्खन जब उबलने लगता है और इसमें उपस्थित सारा पानी भाप बन कर उड़ जाता है। 












8.   Now you can see ghee clearly , heat it for some more time .All ghee will be up and residue will go down .
     मक्खन को थोड़ा और गरम होने दें।  आप अब घी को ऊपर और बची हुई मलाई की एक परत को बर्तन के नीचे पाएंगे। 

 9 . Now use a strainer and separate the Ghee from the residue.
     अब छननी की सहायता से घी को अलग कर लें।
  






  




10 . Now Pure homemade Ghee is ready .
       घर में बनाया हुआ शुद्ध घी तैयार है। 













11. Ghee becomes setteled once it gets cold . You can store it for many days.
      घी ठंडा होने पर जैम जाता है। आप इसे कई दिनों तक रख सकते हैं।  


   










 Note : Ghee made from cow milk is considered Sacred .From thousands of years , we in India making at home and using it .Ghee  has lots of wonderful  medicinal properties . Ghee is a important culinary ingredient .

नोट : गाय के दूध से बने हुए घी को पवित्र मन जाता है।  हज़ारों सालों से भारत में घी घरो में बना कर प्रयोग करने की परंपरा रही है।  घी में कई अदभूत चिकत्सीय गुण होते हैं और पाककला का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है।  

Tuesday, August 22, 2017

Pakodi or bhajiya kadhi/भजिया /पकोड़ी कढ़ी

Bhajiya(Pakodi)Kadi
Pakodi or bhajiya kadhi/भजिया /पकोड़ी कढ़ी:
Ingredients : gram flour ,add chopped onion ,green chilli,chopped coriander leaves,salt ,cumin powder,turmeric powder,oil,curd,water

Preparation of Pakodi(Bhajiya or gram flour dumplings)

In a bawl take gram flour ,add chopped onion(optional) ,green chilli,chopped coriander leaves,salt ,cumin powder,turmeric powder,add some water, mix all of them and make concentrated mixture .

In a pan heat the oil flame should be in medium .Once oil is heated properly start deeping small balls made from the gram flour mixture and slowly deep fry all of them .Once it turns golden brown take them out and keep on kitchen tissue paper to soak those extra oil from the pakodi.

Preparation of Kadi 

Pour 2-3 table spoon oil in the pan
Add mustard seed , curry leaver and 2-3 full red chilis
Mix 1 chopped tomato  and add salt  in the mixture.
Let it cook for some time . Add coriander powder ,turmeric powder in it.
In a separate bowl take 500 gm curd,add  1-2 spoon gram flour ,pour some water (200ml) .Now start stirring or grinding so buttermilk or thinner consistency of curd can be prepared .

Now pour this curd mix in the same pan where tomato is cooked .
Let the curd boil well n get mix with all the ingredients.
Once curd is boil, deep those bhajiya’s (pakodi) in it.
Cover whole preparation and cook for some more time.
Bhajiya kadi is ready to serve with steamed rice. 

Note : Kadi is one of the important part of chhattisgarhi food tradition. Across India Kadi is famous and made by people by other states too .In chhattisgarh dependency on cow and its by products are more ,so practice of making kadi in lunch time is a tradition. 


पकोड़ियों की तैयारी 

सबसे पहले पकोड़ियों या भजिये की तैयारी करेंगे।  इसके लिए एक कटोरे में बेसन ,कटी प्याज (इच्छानुसार) ,थोड़ी कटी हरी मिर्च ,हरी धनिया , नमक,हल्दी पाउडर , जीरा पाउडर डालें और पानी डाल कर अच्छे से फेंट ले. 
एक कड़ाई में तेल गरम करें और फेंटे हुए बेसन के  छोटे छोटे गोले बनाकर गरम तेल में डालते जाएँ और मध्यम आंच में सुनहरा होते तक सेंक लें। 

 कढ़ी की तैयारी

एक कड़ाई में तेल गरम करें , सरसों के दाने ,कर्री पत्ता और खड़ी
लाल मिर्च डाल लें

१ कटा टमाटर डालें और नमक मिला कर पकाएं। थोड़े देर बाद हल्दी और धनिया पावडर मिलाएं और पकने दें। 

साथ साथ एक अलग बर्तन में 500gram दही लें और पानी मिला कर पतला कर लें. उसमें २-३ स्पून बेसन मिलाये और थोड़ा नमक,हल्दी पाउडर,जीरा पाउडर ,धनिया पाउडर मिलाएं।  अब इसमें थोड़ा पानी डालकर ग्राइंडर में थोड़ा चला लें या फिर मथनी से मथ कर  मठा तैयार कर लें।

अब इस दही के मिक्स को कड़ाई के मसाले में मिला कर पकने दे.

जब १-२ उबाल आ जाये तब पकोड़ियों को उबलते  हुए दही में सीधे डालें और ढक कर पकने दें.

जब पक जाये तो ठंडा करें और गरमा गर्म चावल के साथ मज़ा लें.

टिप्पणी : भजिया /पकोड़ी कढ़ी छत्तीसगढ़ियों के खाने का एक प्रमुख अंग है।  ऐसे तोह पुरे भारत में लोग इसे खाते और पसंद करते हैं परन्तु पारम्परिक रूप से  गायों से बने उत्पादों पर निर्भरता ज्यादा होने के कारण कढ़ी को दोपहर के भोजन में जरूर बनाया और खाया जाता है।  यह प्रोटीन का भरपूर स्त्रोत है। 

Monday, April 17, 2017

Radish Leaves/ मूली भाजी

 Radish Leaves/मूली  भाजी 
Ingredients: Radish Leaves,gram lentil,garlic cloves,red chilies,oil,salt,tomato

Wash those green, soft leaves (20-25 nos.).Radish leaves are little raw in texture. wash them thoroughly 3-4 times and cut into the small pieces.

In a cooker take the small quantity of gram lentil, fine cut radish leaves add the half cup of water and little salt .Close the cooker lid and switch on the gas. wait till 2-3 whistle to come. Switch off the gas and let the cooker’s pressure come down.

Heat the small quantity of oil in a pan.Once the oil is the heated season with lots of chopped garlic, red chilies, chopped tomato and transfers the mixture which is in the cooker.Mix them well and add salt as per your taste.Cover it for some time and cook until all the water from the mixture gets evaporated.

Once leaves are dry you can serve with steamed rice and daal.

Note; Radish leaves are high in minerals and good for digestion. Traditional Chhattisgarh foods are close to nature and give balance diet.

मूली  भाजी  के पत्तों  को अच्छे से धो कर बारीक काट लें।एक कुकर में थोड़ा चना दाल लें और कटे हुए मूली के पत्तों को डालें और थोड़ा पानी , थोड़ा नमक डाल कर कुकर को बंद कर गैस में चढ़ाएं और २-३ सिटी दें।     ६-७ लहसुन की कलियों को छीलकर बारीक काट लें।  अब  तेल गरम करें ,उसमें लहसुन कटे हुए , १-२ लाल मिर्च ,और कटे हुए टमाटर को पकाएं। अब  कुकर में पके हुए  मूली के  पत्तों को डालें और ऊपर  से स्वाद अनुसार नमक फैलाएं,और ढक कर पकने दें।   भाजी को  तब तक पकने दें जब तक पानी  पूरा  वाष्पीकृत ना हो जाए। 
एक बार भाजी अच्छे से सूख जाए तो गरम  गरम चांवल के साथ परोसें। 
टिप्पणी : मूली भाजी खनिज लवण से भरपूर होते हैं और पाचन में सहायक होते हैं। पारम्परिक छत्तीसगढ़ी खाना सरल और संतुलित आहार होता है। 

Thursday, March 23, 2017

egg curry/अंडा करी या अंडा मसाला

egg curry /egg masala/chhattisgarh recipes
Ingredients : Eggs,onion,tomato,garlic,ginger,oil,red chili powder,turmeric powder,coriander powder,coriander leafs,cumin seeds,bay leaf,nutmeg,big cardamom,potato

Take 5-6 eggs and 2-3 potatoes, boil them in a cooker or boiling pot.Usually, in the cooker, it takes 1-2 whistles.
Once egg and potato are cold take them out and peel off egg's outer white cover and potato's brown layer.
In a pan heat, the oil and fry those cover less eggs and peeled chopped potato separately until it gets golden brown.

Preparation of curry

chop 2-3 onions in big pieces, peel off  5-6 cloves of garlic also take a small piece of ginger and after wash take out the upper cover.Put everything in grinder add cumin seeds,pour a little water in it and start the grinder. Onion Paste is ready.

Chop tomatoes and make purry out of it.

Heat 3-4 tablespoons oil and add 2-3 bay leafs,big cardamom,nutmeg once they start crackling transfer the onion paste in the oil.Let the paste get cook properly until it turns light brown.You should cook the paste in medium or slow flame as there is chances of getting burnt.Once onion paste is turned brown add tomato purry in it and again let the mixture cook for some time , cook .if required covecook.Once you see the oil has started coming out from the paste put salt as per taste,r ed chili powder(if you like using full red chili then grind with onion paste),turmeric powder,coriander powder and mix them well,add fried potato pieces and cook for 1-2 minutes more.

In a separate utensil heat  or microwave 2-3 glass water for making curry. Pour warm water in the pan, where onion tomato paste with potato is ready. You have to careful ,while pouring the water as gravy consistency should not be very thin. Once curry  water start boiling add chopped coriander leafs .Let them boil and add fried eggs (full eggs or cut in 2 pieces). Cover the egg preparation and cook for 5 minutes more.
Switch off  the flame.
Serve the egg curry with steamed rice or chapati.

Note : The qualities of egg is known by every one .Egg is highly protein rich .In chhattisgarh recipes egg is eaten  with lot of interest .

सबसे पहले ५-६ अंडे और २-३ आलू  लेकर उबाल लें।  ठंडा करके उसके छिलके को निकाल लें और एक कड़ाई में तेल गरम करके सुनहरा होने तक दोनों अंडे और उबले आलू के कटे टुकड़ों को अलग अलग तल लें।
अब २-३ प्याज़ काट कर  जीरा और छिले लहसून के ४-५ कलियाँ और अदरक का छोटा टुकड़ा डाल  कर पीस लें और पेस्ट बना लें। इसी तरह २ टमाटर काट कर पीस लें।
एक कड़ाई में तेल गरम करें और तेज पत्ता ,बड़ी इलायची ,जायफल को डालकर , प्याज़ के पेस्ट को डालें। इसे थोड़ा भूरा होने तक भूने।  अब इसमें टमाटर का पेस्ट डालें और भुनने दें ,जब तेल ऊपर आने लगे तो नमक स्वादनुसार ,पिसी लाल मिर्च (अगर खड़ी लाल मिर्च डालना चाहें तो उसे प्याज़ के पेस्ट के साथ पीस लें ,),पिसी हल्दी ,पिसी धनिया डालें, इसके साथ भुने हुए आलू को डालें और चाहें तोह डांक कर थोड़ी देर पकने दें।
एक दूसरे बर्तन में २-३ गिलास पानी गुनगुना करें।  और ढक्कन  खोल  करके उसमें गुनगुना पानी डालें। इसे थोड़ा पकने दें। अब इसमें कटी हरा धनिया  डालें और उबाल आने दें।  अब इसमें तले हुए अंडे को साबूत  या २ टुकड़ों में काट कर डाल दें और डांक कर ५-७ मिनट पकने दें।

अंडा करी या अंडा मसाला गरमा गर्म चांवल या चपाती के साथ खाने के लिए तैयार है।

टिपण्णी : हम सभी को अंडे के स्वास्थप्रद गुंडों के बारे में अच्छी तरह जानकारी है। अंडा प्रोटीन से भरपूर होता है।  छत्तीसगढ़ में अंडे और अंडे से बनी सब्जियों को बड़े ही स्वाद से खाया जाता है

#छत्तीसगढ़ रेसिपीज हिंदी में #chhattisgarh# chhattisgarh recipes in hindi # chhattisgarh food # chhattisgarh traditional recipes # chhattisgarh ka khana # food from chhattisgarh #egg curry # chhattisgarh cusine



Wednesday, March 1, 2017

Pokhara /Lotus Fruit


Lotus fruit is commonly known as Pokhara in Chhattisgarh.Pokhara /lotus fruit is eaten and high on nutrients.Lotus is the symbol of holiness in Hindu Culture, and one of the important things used in the worship of god.

Almost all part of Lotus is used in making Chhattisgarh cuisine, life stem (http://www.chhattisgarhrecipes.com/2016/06/lotus-stickskamal-kakdidens-curry.html) to fruit. Pokhara is white seeds wrapped with green outer cover and embedded in thick & soft bowl like structure.Pokhara /Lotus Fruits are sweet in taste.
Lotus fruit/Pokhara

Sunday, February 12, 2017

Bhajiya (gram flour dumplings)/भजिया/pakora

Ingredients: Gram flour , gram flour ,add chopped onion ,green chilli,chopped coriander leaves,salt , cumin powder,turmeric powder

chhattisgarh traditional snacks/bhajiya
Bhajiya (gram flour dumplings)/भजिया/pakora
For bhajiya (gram flour dumplings ),in a bawl take gram flour ,add chopped onion ,green chilli,chopped coriander leaves,salt ,cumin powder,turmeric powder.

add some water mix all of them and make concentrated mixture .

In a pan heat the oil flame should be in medium .
Once oil is heated properly start deeping small balls made from the gram flour mixture. 
 slowly deep fry all of them .

Once it turns golden brown take them out and keep on kitchen tissue paper to soak those extra oil from the bhajiya’s.

you can enjoy them with  green chutney. Bhajiya (pakoda) is great snacks item on tea time.

Note : Bhajiya  (gram flour dumplings ), is prepared everywhere in Chhattisgarh .Bhajiya (pakoda)is traditional snacks item in Chhattisgarh . One can easily see local small vendors selling bhajiya everywhere in small village markets (haats). The pulses are main ingredient which makes bhajiya protein rich.
भजिया को चने की दाल के बेसन से बनाया जाता है। पहले एकल बरतन में बेसन लें उसमें कटी प्याज़ ,धनिया पत्ती ,कटी हरी मिर्च ,नमक,हल्दी,जीरा पाउडर ,अगर चाहें तो थोड़ा खाने का  सोडा भी डाल सकते हैं।थोड़ा पानी डाल  कर अच्छे से सबको मिलते जाएँ। घोल को बहुत पतला नहीं बनाना है। अब एक कड़ाई में तेल डाल कर गरम कर लें।  जब तेल गरम हो जाए तोह उसमें बेसन के मिश्रण का छोटा छोटा बाल बना कर डालते जाएँ। और दोनों तरफ से अच्छे तरह तेल में सेंक लें।  जब यह थोड़ा सुनहरा भूरा हो जाए तोह तेल से निकल कर टिश्यू पेपर प्लेट में बिछा कर उसमें भजिये को फैलाते जाएँ ,ताकि एक्स्ट्रा तेल सुख जाए। आप अब भजिये को हरी धनिया की चटनी के साथ मजे से खा सकते हैं।    

टिपण्णी : भजिया दाल से बना होता है और यह प्रोटीन से भरपूर होता है। यह छत्तीसगढ़ का पसंदीदा फ़ास्ट फ़ूड है और हर जगह मिलता है। छोटे हाट बाज़ारों में यह हर जगह बहुताय से दिखता है। 

Wednesday, February 8, 2017

Peyush (cow's colostrum milk),पेयूष



Peyush (cow's colostrum milk), पेयूष
Chhattisgarh tradition sweets/Peyush (cow's colostrum milk), पेयूष
Peyush(cow’s colostrum milk)

Ingredients: Peyush (cow's colostrum milk),sugar,cardamom,water

Take a liter of thick  cow’s colostrum milk in a bowl, add the good quantity of sugar and 3-4 cardamom and mix all of them gently.

Now take cooker or deep utensils to cook in the vapour .

Pour 2glass of water in the cooker and put the bowl inside it , also make sure water should not go inside the bowl.

Now cover it & remove the vessel from the lid.
cook it for 30 minutes.

switch off the flame and let it get cold or some time.Open the cover now take out the bowl.
The milk will be settled in bowls shape, which you can cut in small pcs.

You can keep it in the fridge and enjoy peyush cubes.

Note: Peyush (cow’s colostrum milk) is a very traditional & not so common sweet recipe .which is made out of cow’s colostrum milk(immediate after the calf birth the concentrated yellow milk comes from the cow.Its super nutritious and contains lifetime immune qualities.)





Peyush (cow's colostrum milk), पेयूष
Chhattisgarh tradition sweets/Peyush (cow's colostrum milk), पेयूष

 
पहले १ लीटर पेयूष दूध लेकर उसमें  बराबर मात्रा में शक्कर ,३-४  इलायची  डालकर धीरे से मिला लें।  अब एक गहरा  बर्तन लें और उसमें डालें।  अब कुकर या कोई दूसरा गहरा बर्तन लें जिसमें भाप बन सके। २ गिलास पानी डाल पीयूष वाले मिश्रण को धीरे से रख दें।  ध्यान रखे  की पानी मिश्रण में न जाने पाए। अब डांक दें अगर कुकर का प्रयोग कर रहे हों तोह ढक्क्न से सिटी हटा कर लगाएं। अब ३० मिनट तक पकाते रहें। ३० मिनट के बाद गैस बंद करें और ठंडा होने दें।  थोड़ी देर बाद एक चाकू डाल कर देखें की पूरी तरह से जम गया हो।  ठंडा होने पर टुकड़ों में कट कर लें और फ्रिज में रख कर २-३ दिनों तक इसका मज़ा लेते रहें। 
नोट :पेयूष गाय का गाड़ा दूध (कोलोस्ट्रम मिल्क ) होता है जो कि बछड़े के जन्म के २-३ दिनों बाद तक आता रहता है। यह दूध बहुत ही लाभकारी और शरीर  के  सुरक्षा तंत्र को बढ़ाने वाला होता है।  इसे छत्तीसगढ़ के पारम्परिक मिष्ठानो में से एक माना जाता है।  
 


Tuesday, January 17, 2017

Balooshahi/बालूशाही

balooshahi-Chhattisgarh recipes/Chhattisgarhi sweets
Ingredients : maida ,ghee or dalda for moyan,curd,1/2 spoon baking soda, water
Take maida ,ghee for moyan,1/2 spoon baking soda ,1-2 spoon curd , and luke warm water in small quantity.

Now mix all the ingredient and knead it gently  .Leave the  dough for some time and mix them again .

Now make small round balls out of the dough and press them gently between your palms and make a depression with your thumb on the centre.

Take ghee or dalda in a pan and heat it .Once its proper heated, start deep fry those flat balls in ghee in medium flame.
Once all flat balls are deep fried, It is turn to make sugar syrup. 

Take equal amount of water and sugar in a pan and start boiling it .Slowly once its concentrated .Take a drop of it between thumb and index finger ,if 1-2 strings started coming then switch off the flame.
Pour all the sugar syrup on the fried balls and leave it for few hours. The syrup will settle down and balls will soak in the syrup. Balooshahi is ready to eat.

Note : balooshahi is famous and available everywhere in Chhattisgarh .Its source of energy and sweetness.

सबसे पहले मैदा लेकर उसमें मोयन के लिए घी,१-२ स्पून चमच्च दही और १/२ चमच्च खाने का सोडा मिलाएं।  अब आवश्यकता अनुसार गुनगुना पानी उसमें थोड़ी मात्रा में डाल कर मैदे को मुलायम गूँथ लें।  गुंथे हुए आते को थोड़े देर छोड़ दें।  अब आटे की गोल लोई बनाये और दोनों हथेलियों  के बीच हल्के से  दबा कर चपटा करें और बीच में अंगूठे की मदद से थोड़ा दबा कर गहरा करें। अब कड़ाई में घी या डालडा  लेकर गरम करें और तेल के गरम होने पर लोइयों को हलके आंच में  तल लें।  
एक दूसरे बर्तन में सामान मात्रा में पानी और शक्कर मिला  कर चासनी बनाने के लिए गरम करे।  थोड़े देर बाद उँगलियों के बीच चासनी की एक बूँद ले कर देख लें की १ तार बनाने लग गया हो।  अब चासनी की आंच को बंद करे और चासनी को तले हुए लोइयों के ऊपर डाल कर सूखने के लिए छोड़ दें।  कुछ घंटो बाद आप चासनी की  परत लोइयों के ऊपर देख सकेंगे। बालूशाही तैयार है।

टिप्पणी: बालूशाही छत्तीसगढ़ में  बहुत प्रसिद्ध  मिठाई है और लगभग सभी भागो में मिलती और खायी जाती है। यह ताकत और स्वाद से भरपूर होती है https://www.blogger.com/blogger.g?balooshahiblogID=1569510334211418747#editor/target=post;postID=3256786727662175601;onPublishedMenu=allposts;onClosedMenu=allposts;postNum=1;src=link

Wednesday, January 4, 2017

Futu (long mushroom)/फुटु

Image result for long mushroom
futu/long mushroom-Chhattisgarh recipes
 
Ingredients :Futu (long mushroom seasonal or available button mushroom),onions, salt,turmeric powder,red chili powder ,coriander powder

Soak the mushroom in the water for  some time.Wash it thoroughly .Now with the help of your hand finger tear the long mushroom thread wise and once its done, cut in long pcs.

Fine chop 2-3 onions .

futu/long mushroom-Chhattisgarh traditional recipes
Heat 2-3 spoon oil in a Pan n saute onion first . Add salt,turmeric powder,red chili powder ,coriander powder in onion and mix the chopped futu(mushroom) in it .
 
Cover the preparation and let it cook .slowly water comes out from mushroom.Cook it until all the water evaporate n mushroom turns dry .Switch off the flame n enjoy with chapati or rice .
 
 
Note: Most of us are aware about mushroom & its nutritional values. Now days its grown up commercially & most of them are button mushrooms.From the ages in Chhattisgarh people are consuming mushroom and locally it is known as futu. In Chhattisgarh consumption of  long mushroom is high, which is self grown in the forest near the roots of shady big tree .Now a days it comes only for few days &  price goes upto 400rs/kg.
 
छत्तीसगढ़ में बारिश के समय लंबे फुटु या मशरुम खाने का प्रचलन है। फुटु को  पानी में डूबा कर थोड़ी देर छोड़ दें ।  अब इसे अच्छी तरह से धो लें और हाथों की उँगलियों की सहायता से लंबे फुटु के तारों को अलग करते जाएँ। जब सारे फुटु को अच्छे तरह से तारों को अलग करके काट लें।  अब ३-४ प्याज़ को लंबे और पतले तरीके से काट लें। एक कड़ाई में तेल गरम करें और प्याज़ को भुनाने के लिए डालें।  जब प्याज़ थोड़ा भूरा हो जाए तब उसमें नमक ,हल्दी पाउडर,मिर्ची पाउडर,धनिया पाउडर डाल कर भुने और कटे फुटु को दाल कर अच्छे से डांक कर मिलकर पकाएं  थोड़ी देर बाद फुटु से पानी निकलने लगेगा और इसे तब तक पकने दें जब तक फुटु सुख न जाए। अब फुटु खाने के लिए तैयार है। इसे रोटी  चांवल के साथ परोसा जा  सकता है। 
टिपण्णी : हम सभी मुशरूम के स्वास्थ्यकारक गुण से परिचित हैं।  इन दिनों बड़े पैमाने पर  उगाया जा रहा है । पारंपरिक तौर पर छत्तीसगढ़ में लंबे मशरुम जिसे फुटु भी कहा जाता है खाया जाता है। यह मौशमी है और जंगलों में  बड़े पेड़ों की छाँव में उगता है। मौसम में इसकी मांग बहुत होती है कीमत ४००/किलो  तक जाता है। 

Tuesday, January 3, 2017

Boda/बोड़ा


Boda is a root & eaten mainly in bastar (southern part of Chhattisgarh) .The preparation is little tedious.
 
Boda/बोड़ा-Chhattisgarh recipes- traditional veg preparation
Ingredients : Boda,onion,ginger garlic paste ,tomato paste, water, oil, salt, turmeric, chili powder, coriander powder

Boda is taken out inside from the earth .so it is covered completely with soil.

Soak in water & wash many times the outer layer. Now pel off the out cover & collect the inner round shape part. On requirement basis you can cut into two parts.

Grind or fine chop 2-3 onions ,take  garlic paste or fine chop garlic cloves, prepare tomato paste.

Heat the oil a pan n put onion garlic paste in it .once paste start changing the color mix tomato paste in it. Cook the paste for some time until water evaporate .Now add salt, turmeric, chili powder, coriander powder and cook until oil comes in the sides. Add boda in it,mix with  coocked paste  and cover for some time. After  5-10 mins add some hot water and transfer whole mixture in the cooker. Switch off the flame after 3-4 Whistles.One can enjoy it with steamed rice or ghee roti.
 
 : Boda is nod like structure which is grown on its roots .Its rich in minerals & carbs .Mostly found in forest.It is popular in bastar and near by region.
 
पहले बोड़ा  को अच्छी  तरह से पानी में धो लें।  फिर उसके ऊपरी मिटटी वाले परत को निकाल लें। और अंदर के गोल हिस्से को २ टुकड़ों में काट लें।  अब २-३ प्याज़ ले कर या तो बारीक़ काट ले या फिर पीस लें।  अब एक कड़ाई में तेल गरम करें और उसमें प्याज़ का पेस्ट डाल के भुने १/२ चमच्च लहसून अदरक का पेस्ट डालें और भुने। थोड़ा भून जाने पर टमाटर का पेस्ट डाल दें और अच्छे से भुने जब मसाले से तेल ऊपर आने लगे तब नमक ,हल्दी पाउडर,धनिया पाउडर ,मिर्ची पाउडर फिर थोड़ी देर भून लें।  अब इसमें बोड़ा  डाल  कर अच्छे से मिलाएं और डांक कर पकने दें।  थोड़ी देर बाद ढक्कन खोलें और गरम पानी डाल कर अच्छे से मिलाएं और एक उबाल आने तक पकने दें। अब गैस बंद करें और इसे कुकर में डाल कर ३-४ सिटी दें।  थोड़ी देर बाद कुकर खोलें और गर्म चांवल के साथ बोड़ा का मज़ा लें।
टिपण्णी : बोड़ा सामान्यतः जंगलों में पाया जाता है। यह गाँठ जैसी रचना खनिज लवण से भरपूर और कार्बोहायड्रेट से भरपूर होती है।यह छत्तीसगढ़ के बस्तर और आस पास की जगहों में ज्यादातर खाया जाता है।  
 
 
 

Monday, January 2, 2017

Karil(bamboo shoot)/करील

karil is fine chopped or grated bamboo shoot .

Take 250gm karil  and wash it 2-3 times. Take 2 onions & chop it  in long pcs.

Heat the oil in a pan.Put chopped onion in it ,let it get little brown & add the karil in it .cover the mixture to cook well.

Once its little cooked then add salt,red chili powder, coriander powder, turmeric powder and cover it.

After  5-8 mins open the cover and mix them well . sprinkle fine chopped coriander in it.switch off the flame.  धनिया 

Note : Karil is grated bamboo shot .Its eaten mostly in bastar & near by districts.Bamboo is great food for nutrition specially non agricultural days or time when survival is tough.

करील बारीक़ घिसा हुआ बांस का तना  होता है। उसे पहले अच्छे से धो लीजिये।  अब २-३ प्याज़ अच्छे से काट लें।  एक कड़ाई में तेल डाल कर  गरम करें और कटे प्याज़ को डाल कर भुने और थोड़ा भूरा होने दें। थोड़े देर बाद करील डालें और डक कर पकने दें।  थोड़ी देर बाद जब करील थोड पक जाए तब नमक,लाल मिर्च ,धनिया पाउडर ,हल्दी पाउडर डालें और अच्छे से मिला कर फिर से डांक दें और पकने दें।  थोड़ी देर बाद गैस बंद करें और ऊपर से थोड़ी कटी  धनिया डाल दें। 

टिपण्णी : करील जो की बांस का तना होता है और सामान्यतः छत्तीसगढ़ के बस्तर और आस पास के क्षेत्र में खाया जाता है। बांस बहुत ही पौष्टिक होता और जिन दिनों खेती नहीं होती या फिर अकाल के समय बांस शक्ति स्त्रोत के रूप में काम करता है।