The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

Wednesday, December 16, 2015

Lal bhaji (amaranths leaves )/लाल भाजी

Ingredient: Lal bhaji (amaranths leaves ),garlic,gram pulses,red chilies,salt,water,oil

Follow our Lal bhaji cooking video:


https://www.youtube.com/watch?v=1DfuUjAab_A&feature=youtu.be


Lal Bhaji-food of Indian Sate
In first step you have to wash Lal bhaji (amaranths leaves ), 4-5 times carefully.

Now fine chop the leaves. Take 7-8  garlic cloves and fine chopped.

Amaranths-chhattisgarh traditional food- indian dishes
Heat the oil (small quantity) in a pan and season with  chopped garlic, red chilies (1-2), gram lentils (soaked in water for 10 minutes) , and let it cook for few secs.

Add small portion of water in it. Add all the chopped Lal bhaji (amaranths leaves ), and spread the half a tea spoon salt above it ,cover and cook it for 10 mins in medium flame.
when all the water will vaporized from the pan cook for  2-5 min more , until it is dry .

Lal bhaji (amaranths leaves ), are ready to serve with hot rice and daal.

Note : Lal bhaji (amaranths leaves ) is super food n riched with all necessary contents .as per wiki data
In a 100 gram amount, uncooked amaranth grain provides 371 calories and is an excellent source (20% or more of the Daily Value, DV) of protein, dietary fiber, several B vitamins and many dietary minerals (table). Amaranth is particularly rich in manganese (159% DV), phosphorus (80% DV), magnesium (70% DV), iron (59% DV) and vitamin B6 (45% DV) (table). Cooking amaranth substantially reduces these nutrient contents, leaving only dietary minerals in moderate content.[10]
Cooked amaranth leaves are an excellent source of vitamin A, vitamin C, calcium, manganese and folate.[11]
Amaranth contains phytochemicals that may be anti-nutrient factors, such as polyphenols, saponins, tannins and oxalates which are reduced in content and effect by cooking




लाल भाजी  के पत्तों  को अच्छे से धो कर बारीक काट लें।  ६-७ लहसुन की कलियों को छीलकर बारीक काट लें।  अब  तेल गरम करें ,उसमें लहसुन कटे हुए , १-२ लाल मिर्च ,पहले से भीगा हुआ चना दाल डाल  कर कटे  हुए पत्तों को डालें और ऊपर  से स्वाद अनुसार नमक फैलाएं।  थोड़ा सा पानी डालें और ढक कर पकने दें।  थोड़े समय बात पत्तों से पानी बहार आने लगेगा , भाजी तब तक पकने दें जब तक पानी  पूरा  वाष्पीकृत ना हो जाए। 
लाल भाजी खाने के लिए तैयार हैं।  

नोट : लाल भाजी सभी तत्वों से भरपूर शक्तिशाली पत्तियां होती है। सर्वे के अनुसार लाल भाजी युगों से पोषण के लिए ली जाती हैं। छत्तीसगढ़ में शादियों के समय भी परंपरागत रूप से इन्हे वर को खिलाया जाता है। 




Monday, November 2, 2015

chhattishgarh food information - Traditional alternative foods during scarcity


Traditional alternative foods during scarcity in rural Chhattisgarh: khoila

 In villages people are purely dependent on rice crop , which comes  during oct –nov.By that time last stock gets finish. There are different arrangements by the villagers .

Alternate crops like kutki,sanwa,kanda, those grows themselves around open field or pond.

They dried Some of the roots and fruits like berry,mango ,zimikandcan .In vegetables beans, bitter gourd, eggplants, drumsticks, tomatoes fill the gap. These dried vegetables are known as khoila. Pumpkin are mixed with lentils and dried in the sun are known as badis.

One of the best food in scare situation is bamboo seeds ,which is more energetic than other grains ,but taking it out from  bamboo bunch itself is a tedious exercise .

These are alternative arrangements in rural areas ,which is sustainable for time being.

Friday, July 31, 2015

Raw banana kari /कच्चे केले की सब्जी


Give  wash to raw banana and peel off the outer green cover. Now chop into big equal pieces .

wash 1-2 potatoes(optional) and cut into equal 4 pieces .Take 3-4 table spoon of oil in the pan and heat it . semi fry both the vegetable together for 1-2 min . 
Take oil in a pan and put 1-2 table spoon of  ginger garlic paste ,add fine chopped (or grinded onion) .
cook in slow flame until onion turns brown .Now add fine chopped tomatoes and let the mix cook some more time .
now add salt, turmeric powder, chilli powder, coriander powder, and cook the mixture 1 more minute.
Now add semi fried raw banana  and potato with the onion tomato mix, cover the pan and cook it some more time.

Open the cover and  mix 300-400 ml of hot water in it. Let the water boil and now transfer whole material into the cooker and let it whistle for 2-3 times . Raw banana is ready to eat with chapati or steamed rice.

 Note : In Chhattisgarh the raw banana preparation is considered as one of the rich & preferred dish.People love the taste of it .Most of the houses are having their own banana plantation ,so it is available easily and  organic too. Raw banana has lot many healthy qualities.
 
2-3 कच्चे केले को धो कर ऊपरी छिलके को छिल लें। छीलकर सामान आकर के बड़े टुकड़ों में    काट लें।  और  २-३ आलू  (इच्छानुसार )को भी छीलकर काट लें।  अब एक कढाई में तेल लेकर दोनों को थोडा तलकर निकाल  लें । दुसरे बर्तन में थोडा  तेल गरम करें।  लहसून अदरक का पेस्ट डालें और लाल होने पर बारीक कटी  प्याज़ डालें और हल्का भूरा होने तक पकने दें। प्याज़ के पक जाने के बाद  बारीक कटी टमाटर दाल कर अच्छी तरीके से भुन लेन ।  जब थोडा तेल बहार आने लगे तब नमक,मिर्च पाउडर हल्दी पाउडर , धनिया पाउडर डालें और थोड़ी देर तक भुनने दें। अब तले हुए कच्चे केले  और आलू को मिश्रण में मिला कर  पकने दे।  जब सब्जियाँ  मसालों के साथ अच्छी तरह से मिल जाए और नरम हो जाए तब ३००-४०० मि ली कुनकुना पानी मिला कर ढक  कर पकाएं जब पानी में उबाल आ जाये तब एक कुकर में पूरा मिश्रण उडेह दें और कुकर का मुह बंद कर २-३ सीटी बजने दें। थोड़ी देर बाद कुकर खोलें और जीरा पाउडर छिड़क दें।   की सब्जी तैयार है जिसका मजा रोटी या गरमा गरम चावल के साथ लिया जा सकता है। 
नोट : छत्तीसगढ़ में कच्चे केले की सब्जी बहुत पसंद की जाती है और सभी सब्जियों से विशिष्ठ समझी जाती है।  बहुत सारे घरो में केले के पेड़ होते हैं तो आसानी से उपलब्ध और स्वास्थप्रद होती है। 

Wednesday, July 15, 2015

Bore Baasi /बोरे बासी (chhattisgarh food information)


Bore baasi :

In Chhattisgarh, there is tradition to soak remaining cooked rice in the night. Next morning the whole family have it in breakfast. This is the way to preserve & reuse cooked rice for longer hrs. Baasi is very heavy breakfast and before consumption one should add salt in it. Tomato chutney, chech bhaaji , pickle or buttermilk are the best partners of baasi.In summer, baasi cools the body. Orissa, Bengal are the few states where traditionally baasi are consumed by another name.

छत्तीसगढ़ में रात को पके हुए चावंल को डूबा कर रखने की परंपरा है।  अगली सुबह  परिवार के सभी लोग इसे नाश्ते के रूप में खाते हैं।  यह खाने को रात भर सुरक्षित रखने और व्यर्थ होने से बचने का एक तरीका है।  बासी एक भारी नाश्ता है जो की ज्यादा ताकत के लिए खेतो में काम करने या ज्यादा म्हणत करने वाले लोगों द्वारा विशेष रूप से पसंद किया जाता है। बासी में नमक डाल कर आचार ,भाजी,टमाटर की चटनी या फिर मठा के साथ खाया जाता है।  यह गर्मियों में शरीर को ठंडक देता है। ओरिसा ,बंगाल जैसे और भी राज्यों में यह अलग अलग नामो से जाना जाता है।  

Thursday, June 4, 2015

Apple vs Tomato : chhattisgarhrecipe's general food information

 

Apple vs Tomato : All the time apple's prices are very high .One has to think twice before purchasing them .But have we ever thought about the nutrition available in the fresh ,uncooked tomatoes . Tomatoes are less in calories and higher in nutrition values than the apple. There is no comparison between price also.

Thursday, May 14, 2015

Papchi (sweet wheat balls)/ पपची


Ingredients : wheat flour ,ghee, sugar or jiggery , water
  
Take wheat flour and mix pure ghee with it .
Kindle them softly and leave it for some time.
Now make round flat balls from it and deep fry them in slow flame .
Take a pan and mix some sugar Or jiggery in equal amount of water and heat it until it gives 2 treads .
Once syrup is ready switch of the flame and soak those flat balls in  the sugar syrup.
Papchi is ready but wait for 3-4 hrs before serving , slowly it will dried & mouth dissolving.

Note : Deep fry in slow flame because of thickness ,it may not evenly fry . wheat flour  is healthy for kids.   

 गेंहूँ के आते में घी का मोयन मिलाकर अच्छे से गूँथ लें।  अब एक कड़ाई में तेल को धीमे आंच में गर्म करे ,जब तक तेल गरम हो रहा हो तब आटे  की लोई बना कर चपटा करते जाएँ।  अब गर्म तेल में डालें और धीरे आंच में सकते जाएँ।  एक दूसरे पतीले में शक्कर या गुड लें उसमें सामान मात्र में पानी दाल कर उबालें।  बीच बीच में उंगलियों से छू कर देखें।  अगर २ तार बनने लगे तब गैस बंद कर दें। अब पपची को चासनी में डुबायें ये फिर ऊपर से डालें और कुछ घंटों के लिए छोड़ दें।  पपची खाने के लिए तैयार है। 
नोट : धीमे आंच में सेंके ,कई बार मोठे के कारण अंदर से  पपची ठीक तरह से सिक नहीं पाता। गेहूं का आटा बच्चों के लिए लाभप्रद होता है और पपची का मीठा स्वाद उन्हें पसंद आता है। 

 

Tuesday, April 21, 2015

Murra Laddoo (puffed rice ball)/मुर्रा/मुरमुरा लड्डू


Ingredients : Murra (puffed rice),jiggery (gud)

 Take jiggery (gud) in a pan and mix glass of water .Heat them until it turns concentrated . Put one drop of syrup between thumb and index finger, when it starts giving 2 strings switch off the flame.

 Mixed the puffed rice with the jiggery syrup . Put some water on your palm and start making balls from the mixture.

 Murra laddoos are ready to serve.

 Note : Murra Laddoo is very known healthy sweet traditional chhattisgarhiya  preparation. It is easy to prepare and loved by kids .
 
एक पतीले में १ गिलास पानी लें और उसमें करीबन २००ग्राम गुड डालें। अच्छे से पकाएं थोड़ी देर बाद एक बून्द अपनी उंगलिओं के बीच रख करदेखें की २ तार बन रहे हों। अगर २तार बनने लगे तो गैस बंद कर दें अथवा  चासनी को और गाड़ा होने दें।  अब इसमें मुर्रा/मुरमुरा डाल कर अच्छे से मिलाएं और हथेलियों में पानी लगा कर लड्डू बनाते जाएँ। 
 
नोट : ये छत्तीसगढ़ी  मुर्रा/मुरमुरा लड्डू आपके बच्चों को बहुत पसंद आ सकते हैं और स्वास्थप्रद भी होते हैं। 

Thursday, April 2, 2015

Kari laddoo / करी लड्डू


Ingredients : Gram flour ,ghee (dalda),salt , jiggery (gud) , oil,water

 
Take gram flour and mix with water and moyan (ghee or dalda) ,salt (as per taste) ,prepare concentrated paste out of it .

Heat some oil in pan .

Put the concentrated gram flour paste in sev mould and fry the long gram flour strings in hot oil. Flame should be in medium flame and prepare crunchy strings.

Once strings are ready let them get cold for some time . Now break them into small pieces.

Meanwhile take jiggery (gud) in a pan and mix glass of water .Heat them until it turns concentrated . Put one drop of syrup between thumb and index finger, when it  starts giving 2 strings switch off the flame.

 Mix well gram strings pieces (sev) with jiggery syrup.

Put some water on your palm and start making balls out of it .

Kari laddoos are ready to serve.

Note: kari laddo is a type of traditional chhattisgarhiya sweet. One can easily find them in the local haat bazar .Now days packed version is also available in the market.
 
बेसन को मोयन ,नमक और पानी के साथ मिलाकर अच्छे से गुंथे।  अब एक कड़ाई में तेल गरम करें और बेसन के मिश्रण को सेव बनाने वाले साँचे में डालकर सेव तलते जाएँ।  सेव को थोड़े देर ठंडा होने दें और कुछ देर बाद छोटे टुकड़ों में तोड़ें।  अब एक दूसरे पतीले में एक गिलास पानी लें और गुड डालकर चासनी बनाने के लिए पकाएं। जब गुड की चासनी में झाग दिखने लगे तब उंगलियों से छू कर देखें।  
तब तक गर्म करें जब तक दो तार बनने लग जाए।  गैस को बंद करें। चासनी में सेव को अच्छी तरह से मिलायें। हाथ में पानी लगाकर हल्के दबाव से लड्डू बनाते जाएँ। 
 
नोट : करी लड्डू पारम्परिक छत्तीसगढ़िया मिठाई है। ग्रामीण हाट बाज़ारों में आसानी से देखी  जा सकती है।  आजकल होटलों या दुकानों में भी पैक्ड करी लड्डू ख़रीदे जा सकते हैं। 
 
 
 
 

Friday, February 27, 2015

Khedha bhaji /खेड़ा भाजी


Ingredient: khedha  leaves,garlic,gram pulses,red chilies,salt,water,oil

 
In first step you have to wash khedha leaves 4-5 times carefully.

Now fine chop the leaves. Take 7-8  garlic cloves and fine chopped.

Heat the oil (small quantity) in a pan and season with  chopped garlic, red chilies (1-2), gram lentils (soaked in water for 10 minutes) , and let it cook for few secs.

Add small portion of water in it. Add all the chopped khedha leaves and spread the half a tea spoon salt above it ,cover and cook it for 10 mins in medium flame.
when all the water will vaporized from the pan cook for  2-5 min more , until it is dry .

Khedha bhaji ( leaves) are ready to serve with hot rice and daal.
 
खेड़ा के पत्तों  को अच्छे से धो कर बारीक काट लें।  ६-७ लहसुन की कलियों को छीलकर बारीक काट लें।  अब  तेल गरम करें ,उसमें लहसुन कटे हुए , १-२ लाल मिर्च ,पहले से भीगा हुआ चना दाल डाल  कर कटे  हुए पत्तों को डालें और ऊपर  से स्वाद अनुसार नमक फैलाएं।  थोड़ा सा पानी डालें और ढक कर पकने दें।  थोड़े समय बात पत्तों से पानी बहार आने लगेगा , भाजी तब तक पकने दें जब तक पानी  पूरा  वाष्पीकृत ना हो जाए। 
खेड़ा भाजी खाने के लिए तैयार हैं।  
 

 

Wednesday, February 11, 2015

Til laddoo (sesame balls) / तिल के लड्डू


Til laddoo (sesame balls) / तिल के लड्डू 

Ingredients: sesame, jaggery, peanuts, water

Wash 200 grams sesame seed (white/black)

For Preparing this Chhattisgarh Cuisine first, wash the sesame seeds thoroughly in water.

Spread them on the cotton cloth and dry them in open sun.

Meanwhile, heat the pan on the gas stove and roast those peanuts.

Once peanuts are roasted leave them for some time and peel off the peanut’s cover.

Grind those coverless peanuts in the grinder now.

When sesame seeds get little dry, roast them in a hot pan in the mild flame until it gets completely dry.

For this traditional Chhattisgarh food, take a pan and boil 1 glass of water with 200 gms jaggery and prepare the syrup.

Check the tendency of the syrup. Take a drop on your thumb and touch it with the index finger, when it start giving 2 strings and looks darker then the syrup is ready to use. Switch off the flame.

Pour the powdered peanuts & roasted sesame seeds into the syrup, mix them well.

Once the mixture is a bit colder then put a layer of water on your palm make round balls out of it.
Sesame balls/til laddoo are ready to serve.

Note: In Chhattisgarh, sesame seeds are very famous preparation during winter and represents Makar Sankranti festival. This famous Chhattisgarh Recipe of Til laddoo is full of calories and full of energy.I ts very healthy and combination with jaggery is perfect for chilling winter.   


सबसे पहले तिल (सफ़ेद / काला ) अच्छे से धो लें। धुले हुए तल को सूती कपडे पर अच्छे से फैला लें और धूप में सुखा दें। अब एक कड़ाई में मूंगफल्ली को अच्छे से भून लें।  ठंडा होने पर फल्ली के छिलके को  निकाल लें और ग्राइंडर में पीस लें। ।  तिल जब थोड़ा सुख जाए तब उसे अच्छे से सुखा होते तक भून लें।  थोड़ा ठंडा होने के लिए रखे। एक पतीले में २०० ग्राम गुड और १ गिलास पानी दाल कर चासनी बनाने के लिए गरम करे। जब चासनी गाडी होने लगे तो उंगलिओं की सहायता से देखें की  २ तार बनाने लगे। अब पिसे हुए  हुए मूंगफल्ली के पाउडर और  भुने हुए तिल को अच्छे से चासनी में मिलाये।  हाथों में पानी लगा कर कर मिश्रण से लड्डू बनाते जाएँ।

नोट : तिल के लड्डू शक्तिप्रद और गर्मी देने वाले होते हैं।  छत्तीसगढ़ में संक्रांत के पर्व पर खासतौर पर बनाया जाता है। गुड , तिल और मूंगफल्ली सर्दियों में बहुत ही लाभप्रद होते है।

Wednesday, January 28, 2015

Laee bari (puffed rice balls) / लाई बरी


Laiee is kind of puffed rice (more white & broad) , pressured and roasted version of rice paddy . Mostly used during laxmi puja in diwali .In terms of calories its more healthier than rice. One of the most famous recipe is lai bari (wadi).

 
Ingredients : Laee (puffed rice more white & broad) , sago , water , salt, red chili powder .

 
In first step , wash many times to the laee because it can contain paddy cover or soil.

Once its washed thoroughly soak in water for some time .

Meanwhile heat some water in the container and when it start boiling add some presoaked sago.
 
Stir  the mixture till it turned in concentrated paste  . stop cooking it.

Now take out laee from the water and press it until it gets little dry.

Mix the laee with the sago paste , add white sesame seeds ,salt as per taste and mix some red chili powder as per choice.

Take a big tray or parra (wooden tray in Chhattisgarh  ) and spread wet cotton cloth on it .

Start making small balls from mixture and put on the tray.

Once Mixture is finished , dry the laee bari (balls) on the open sun .It takes 2-3 days to dry nicely.

 Note : chhattishgari lai bari is very famous pass time snacks or side dish with main course. Very easy to contain and very tasty to eat ( difficult to stop).
 
लाई मुरे की तरह धान को दबाव में रख कर भून कर बनाया जाता है।  छत्तीसगढ़ में बाज़ारों में आसानी से उपलब्ध  होता है।  छत्तीसगढ़ियों में लाई बरी बहुत पसंद की जाती है। 
सबसे पहले ले को बहुत अच्छे से धो ले।  फिर इसे पानी में थोड़े देर डूबा कर छोड़ दें।  इस बीच एक पतीले में पानी उबालें और पहले से भिगोये हुए साबु दाने को डाल  कर अच्छे तरीके  से पकाते जाएँ जब तक गाड़ा पेस्ट न बन जाए।  अब लाई को पानी से निकल कर अच्छे से दबाकर सुख ले और साबू दाने के पेस्ट में मिलते जाएँ। स्वादानुसार  नमक और लाल मिर्च और थोड़ा सफ़ेद तिल मिलाएं।  अच्छे से मिला ले। 
अब एक बड़े ट्रे  या लकड़ी के पर्रे पर गिला सूती कपड़ा बिछा ले और लाई के मिश्रण से गोल बरी बनाते जाएँ। जब यह बन जाए तब इसे धुप में सूखने के लिए रख दें।  लाई बरी  सूखने में २-३ दिन लगते हैं। 
 
नोट : छत्तीसगढ़ में लाई बरी  बड़े चाव से  खाने के साथ या फिर ऐसे भी  तल कर खाई जाती है। रखने में बड़ी आसान और खाने में बहुत स्वादिष्ट होती है एक खाना शुरू हो तो बंद होना बहुत मुश्किल होता है :)