The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

FlipKart Offers!!

Buy Online with Discount

Friday, June 29, 2018

Stuffed Karela/Stuffed BitterGourd/भरवां करेला

Stuffed Karela/Stuffed Bitter Gourd/भरवां करेला 
Chhattisgarhi method of stuffed karela is the most simple and easy recipe to cook ,which takes minimum efforts and contains its most of the nutritious elements.

 
Ingredients:

Bitter Gourd-1/2 kg (3-4 pieces)
Coriander Powder-3-4 table spoons
Salt -  as per taste 
Cumin Powder-2-3 table spoons
Red chili powder-1/2 table spoon
Turmeric powder- 1/2 table spoons
water 
Oil
Mango powder/lemon juice

Method of Stuffed Karela/Stuffed Bitter Gourd/भरवां करेला 

Preparation of Bitter Gourd:

1. Take half a kg bitter gourd or 4-5 pieces of it.
2.Wash them once and start peeling the outer rough cover of it with the peeler.
3.Wash them again and slit the bitter gourd on center in length.
4.Repeat the process with all bitter gourds. 
5.You can remove the seeds on choice as in Chhattishgarh people love having them with the seeds.

Preparation of Bitter Gourd Stuffing:

1. Take 3-4 table spoon of coriander powder .The coriander powder is the base of stuffing so quantity would be little more than other ingredients.
2. Add 2-3 table spoons of cumin powder , the second ingredient which is more in quantity.
3. Add salt as per taste, little more than half a table spoon .(Taste the salt once stuffing is prepared.)
4.Add Turmeric and red chili powder half a table spoons each .
5.Sprinkle dry Mango Powder half a table spoon of squeez half lemon juice.
6 . Pour little water on ingredient mixture and start mixing it with hand or spoon .

How to make stuffed Karela/Stuffed Bitter Gourd/भरवां करेला :

1. Now Open the bitter gourd from the slitted center and start  filling it ,with the small quantity of prepared stuffing. Stuff all the bitter gourd with the same process.

2.Take a pan and heat the Oil in it .
3.Once the oil is warm enough ,start putting the stuffed bitter gourds in the hot oil gently one by one.
4. Cover the lid and leave it for some time on medium flame.
5.After 7 to 8 minutes open the lid and turn the bitter gourds gently to other sides of it.
6.Don't cover it and cook them at lower flame for 10 more minutes.
7.Stuffed bitter gourds are ready to serve with steamed rice and daal.


Stuffed Karela/Stuffed BitterGourd/भरवां करेला Recipe Video :




Step-by-Step Chhattisgarhi Stuffed Karela/Stuffed BitterGourd/भरवां करेला 

1.   Small size of bitter gourds are preferable for bharwan or stuffed karela ,though you can cut the the bigger bitter gourds in 2-3 pieces. Take half a kg of bitter gourd ,wash them thoroughly. 














 2.Remove the upper rough outer layer of it and wash them once again.Some people soak them in salt water to remove the bitterness of but we avoid that process.Now give a vertical cut on center of bitter gourds.Few people prefer removing seeds but in Chhattisgarhi method of preparation we retain the seeds inside.















3.Its time to prepare filling with coriander powder,cumin powder ,red chili powder,salt,turmeric powder and little dry mango powder or lemon juice.















4. Pour some water and mix all the ingredients well and start stuffing the bitter gourds one by one.









5.Take some oil in a pan and heat it .















6. Once it gets hot enough then start putting bitter gourds one by one .While doing the procedure one has to careful about the hot oil .Cover the lid and let it cook.














7.After 15-20miutes of the cooking stuffed bitter gourds get ready to serve .This recipe can last for 5-7 days in freeze.














Note : Bitter Gourd is not the favorite dish for many of us but we all know the medical importance of this vegetable. In Chhattsigarh karela is found in most of people's kitchen garden and very popular among all.It works on maintaining higher blood sugar level,cholesterol and purifying agent for blood 

भरवां करेला बनाने के १/२ किलो छोटे करेले लीजिये अगर बड़े करेले ले रहे हों तोह उसे २-३ छोटे टुकड़ों में काट लीजिये।  अब करेलों को धो कर अच्छे से बहार की परत को छील लें। कुछ लोग करेले की कड़वाहट को कम करने के लिए छिले हुए करेले को कुछ देर नमक के पानी में डूबाकर छोड़ देते हैं। इस विधि में हम ऐसा नहीं कर रहे हैं।  
अब आप छिले हुए करेलों को बीच से लम्बाई में काट लें।  और चाहें तोह बीच से करेलों के बीजों को निकल लें।  छत्तीसगढ़ी खाद्य विधि में बीजों का महत्व है जिसके कारण हम इसे नहीं हटा रहे हैं।  
अब करेलों में भरने के लिए मसलों की तैयारी करते हैं। मसलों में सबसे ज्यादा भाग धनिया पाउडर का रहता है। आप ३-४ छोटे चम्मच धनिया पाउडर का लें इसमें २-३ छोटे चम्मच जीरा पाउडर और १/२ चम्मच  हल्दी ,मिर्ची पाउडर और १/२ चम्मच अमचूर पाउडर या फिर आधा निम्बू का रस मिला लें।  अब इसमें थोड़ा पानी डाल कर मिश्रण तैयार कर लें।  
अब इस तैयार मसलों के मिश्रण को थोड़ा थोड़ा ,बीच से कटे हुए करेलों के बीच भरें।  जब सभी करेलों में मसाले भर जाये तब एक कड़ाई में तेल ले कर गरम करें , और जब तेल गरम हो जाए तो धीरे धीर एक एक करेलों को तेल में रखें।  जब सारे करेलों को तेल में रख लें फिर ढक कर  मधयम आंच में  पकने दें। ७-८ मिनट के बाद ढककर खोलें और करेलों को पलट दें, और खुला करके धीमी आंच में पकने दें. १५-२० मिनट में भरवां करेले गर्म चांवल और दाल के साथ खाने के लिए तैयार हैं।  

नोट: करेला प्रयातः बहुत से लोगों को पसंद नहीं होता ,पर हम सभी को इसके स्वास्थवर्धक गुणों के बारे में पता है।  छत्तीसगढ़ में लोगों के बाडियों में करेले की बेलें प्रयातः पाई जाती है। करेला मधुमेह(शुगर),कोलेस्ट्रोल नियंत्रक और खून साफ़ करने वाला होता है। 


Tuesday, June 26, 2018

Mirchi Bhajiya(bhajji) or Fry green chilies/मिर्ची भजिया (भज्जी)

Mirchi Bhajiya(bhajji) or Fry green chilies

Ingredients:
Green chilies -6-7
(long , light green n thick ones)
Gram flour -1/2 bowl
Rice flour -2-3 spoons
Salt
Red chili powder -less than 1/2 table spoon
Turmeric powder- 1/2 table spoon
baking Soda - 1/2 table spoon (optional)
Ajwain(carom seeds) -1/2 table spoon

Method:

Preparation of Mirchi Bhajiya(bhajji):

1. Take 6-7 green chilies ,long ,light green and thick ones.
2.Give a long cut in centre and remove the seeds completely .
3. Fill little ajwain (carom seeds) in each deseeded chilies.


Preparation of gram flour paste (batter) :

1. Take 1 bowl of gram flour and add salt,red chili powder,turmeric powder, little rice powder (optional),baking soda(optional)
2. Pour the water in the mixture  stir them well and make a batter with medium consistency, neither thick nor very thin.

Mirchi Bhajiya(Bhajji) Recipe:

1. 250 ml of oil in a kadai or pan and heat it.
2. Pour a drop of batter in oil to check that oil is heat enough.
3. Now dip the slitted green chilies in the gram flour batter and drop in the oil (you can directly do it with hands or  spoons) .
4.Deep fry the green chilies in medium flame till it turns golden and crisp.(In between you can stir them gently.)

4.Repeat the process with all the green chilies .
5. Mirchi Bhajiya(bhajji) or Fry green chilies are ready to serve with green chutney or sauce.

Note: Mirchi Bhajiya(bhajji) or Fry green chilies are a example of  combination of simplicity and taste . This recipe is loved by all Indian .In Chhattisgarh its considered as breakfast,tea time snacks as well as side dish ,which increases the taste of main meal.It is made out of vegetable with gram flour so you can considered as healthy recipe if consumed in limited number :).

६-७ लम्बी,हलकी हरी और थोड़ी मोटी मिर्ची लें।  इसे बीच में से लम्बा काट लें।  अब उसमें से सारे बीज हटा लें।  अब खाली मिर्ची में थोड़ा अजवाइन छिड़कें।सारी मिर्चियों के साथ ऐसा ही करें। 
 एक बर्तन में १  कटोरी बेसन लें और इसमें नमक ,हल्दी और पीसी लाल मिर्च पाउडर डालें।  आप इसमें थोड़ा खाने का बेकिंग सोडा डाल सकते हैं। अब पानी डाल  कर अच्छे से मिलाये और पेस्ट बना लें।  पेस्ट न ज्यादा मोटा रहना चाहिए और न ही ज्यादा पतला।

अब एक कड़ाई में तेल गरम करें। तेल गरम हुआ है की नहीं देखने के लिए १ बून्द बेसन  का पेस्ट इसमें टपकाएं।  अब तैयार कटी मिर्चियों  को बेसन के घोल में डूबा कर तेल में डालते जाएँ और मधयम आंच में तलें।  थोड़ी देर में जब इसका रंग सुनहरा हो जाएँ तब आप इसे बहार निकल लें। गरमा गरम मिर्ची भजिया (भज्जी)तैयार है जिसे आप हरी चटनी या सॉस के साथ स्वाद उठा सकते हैं।

नोट :मिर्ची भजिया (भज्जी) सादगी और स्वाद का एक उदाहरण है।  पुरे भारत वर्ष में इसे पसंद किया जाता है।  छत्तीसगढ़ में इसे सुबह के नास्ते ,चाय के साथ या फिर मुख्य भोजन के साथ स्वादवर्धक के रूप में खाया जाता है।  सब्जी और दाल से बने होने के कारण अगर इसे सिमित मात्रा में खाया जाया तो यह स्वस्थ वर्धक भी है।

follow our other chhattisgarhi snacks recipes




Saturday, June 23, 2018

Aloo Gunda/Aloo Bonda/ आलू गुंडा ,आलू बोंडा

Aloo Gunda/Aloo Bonda/Batata Vada
Aloo Gunda/Aloo Bonda/ Batata Vada -आलू गुंडा ,आलू बोंडा

Ingredients:

For Potato Balls

Potatoes - 4-5 pieces
curry leaves
Salt-as per taste
Green Chilies -1-2 pieces
Ground Nuts or cashew
mustard seeds-1/2 small spoon
Cumin seeds- 1/2 small spoon
Mango powder-1/2 small spoon
Turmeric powder-1/2 small spoon
Onion-1
Coriander Powder-1 small spoon
Coriander leaves
oil

For Batter:

Gram flour-1 bowl
Rice flour -2-3 spoons
Salt
Red chili powder -less than 1/2 table spoon
Turmeric powder- 1/2 table spoon
baking Soda - 1/2 table spoon (optional)


Method :
1. Take 4-5 potatoes and boil them in cooker or steamer .
2. Meanwhile choop the 1-2 green chilies, green coriander leaves,fine chop 1 onion(optional).

Preparation of potato balls:

1. Once potatoes are boiled and cooked,let them get cold. After some time,remove the outer layer of potatoes and mash them well .

2.Take 2-3 tea spoons of oil in a pan and heat it well .
3. Now put mustard seeds,cumin seeds, curry leaves,ground nuts/cashew,chopped onion and saute it for some time.
4. Add Salt ,turmeric powder,coriander powder , mango powder and mix them well .
5.Now add mashed potatoes in the cooked ingredients and make a mixture out of it .
6.Sprinkle the chopped coriander leaves on it.
7.Once the potato mixture gets cold start making balls out of it .

Preparation of gram flour paste (batter) :

1. Take 1 bowl of gram flour and add salt,red chili powder,turmeric powder, little rice powder (optional),baking soda(optional)
2. Pour the water in the mixture  stir them well and make a batter with medium consistency, neither thick nor very thin.

Aloo gunda or Aloo Bonda recipe :

1. 250 ml of oil in a kadai or pan and heat it.
2. Pour a drop of batter in oil to check that oil is heat enough.
3. Now dip the potato balls in the gram flour batter and drop in the oil (you can directly do it with hands or  spoons) .
4.Deep fry the balls in medium flame till it turns golden and crisp.(In between you can stir them gently.)

4.Repeat the process with all the potato balls.
5.Aloo gunda or aloo bonda or batata vada is ready to serve with green chutney or sauce.

Note : Aloo gunda,Aloo bonda or batata vada are few name for these tasty and easy recipe which is very famous across India as snacks or street food.In Chhattisgarh this potato balls are know as Aloo Gunda.The aroma of this mouthwatering recipe is very common in any of the local market ,restaurants,local celebrations or any parties in Chhattisgarh.



आलू गुंडा के लिए ४-५ आलूओं को धो कर कुकर में उबाल लें। जब आलू पाक जाए तब उसे ठंडा होने दें। बाद में उसका छिलका निकल कर उसे अच्छे से मैश कर लें।  अब एक कड़ाई में  २-३ स्पूंस तेल लेकर गर्म करें और उसमें सरसों के दाने ,जीरा , बारीक़ कटी हरी मिर्च , मीठी नीम पत्ती , और मूंगफल्ली दाने और एक छोटा कटा प्याज़ (इच्छानुसार) डाल कर भुने। अब इसमें नमक स्वाद अनुसार, पीसी हल्दी ,पीसी धनिया थोड़ा अमचूर पाउडर डालकर अच्छे से मिलाये और पकने दें।  थोड़ी देर बाद मसले हुए आलूओं को इसमें मिलाये और मिश्रण को अच्छे से पकने दें।  थोड़ी देर बाद पकाना बंद करें और मिश्रण को ठंडा होने दें। कुछ समय बाद आलू के मसाले से छोटे छोटे गोले बना लें।

एक बर्तन में १  कटोरी बेसन लें और इसमें नमक ,हल्दी और पीसी लाल मिर्च पाउडर डालें।  आप इसमें थोड़ा खाने का बेकिंग सोडा डाल सकते हैं। अब पानी डाल  कर अच्छे से मिलाये और पेस्ट बना लें।  पेस्ट न ज्यादा मोटा रहना चाहिए और न ही ज्यादा पतला।

अब एक कड़ाई में तेल गरम करें। तेल गरम हुआ है की नहीं देखने के लिए १ बून्द बेसन का पेस्ट इसमें टपकाएं।  अब आलू के गोलों को बेसन के घोल में डूबा कर तेल में डालते जाएँ और मधयम आंच में तलें।  थोड़ी देर में जब इसका रंग सुनहरा हो जाएँ तब आप इसे बहार निकल लें। गरमा गरम आलू गुंडा/आलू बोंडा या फिर बटाटा वड़ा तैयार है जिसे आप हरी चटनी या सॉस के साथ स्वाद उठा सकते हैं।
 नोट : आलू गुंडा ,आलू बोंडा या फिर बटाटा वडा जैसे कई नामों से इस स्वादिष्ट और सरल रेसिपी भारत में जाना जाता है।  छत्तीसगढ़ में इसे आलू गुंडा कहते हैं और इसकी खुशबू किसी भी हाट बाजार ,होटलों या फिर किसी भी शादी ब्याह ,छोटे कार्यक्रमों में मिल जाती है।







 




Monday, June 11, 2018

Mango Pickle/आम का अचार

Mango pickle/आम का अचार
Ingredients :
Raw Mango : 1 kg
Mango cutter
Mustard oil or any edible oil : 1 liter
fenugreek seeds-50gms
mustard -100 gms
fennel seeds - 50 gms
onion seeds(karayat)-25 gm
Jaggery - 1 table spoon
Salt : 7-8 table spoons
Turmeric Powder- 5-6 table spoons
Red Chili Powder- 2-3 table spoons (as per taste)

Follow us on Youtube for step by step method of Mango pickle.




Method :

1. Take 1kg raw mangoes
and dip it in the water.

raw mango for mango pickle















2. Now cut the mangoes in equal pieces with the help of mango cutter or a knife.You can cut the seed along or remove it completely.

3.Once the cut pieces are ready, marinate them with some salt as well as turmeric powder on it.

4.Now cover the salted mango pieces and leave it for whole night.

marinated mango pieces














5.The next morning extract the water completely , which has come out from the mango pieces.


drained mango pieces for pickle













6.Now spread the mango pieces on the paper and leave it for some time under the fan to get the pieces little dry.

mango pickle in chhattisgarh













7.Meanwhile start preparing for rest of the ingredients used in Mango pickle.
fenugreek seeds-50gms
mustard -100 gms
fennel seeds - 50 gms
onion seeds(karayat)-25 gm


combinations of ingredients for mango pickle














8.First start with roasting the onion seeds gently in medium flame.Once roast is done, transfer the onion seeds(karayat) in a bowl.

roasted onion seeds for pickle













9.Now carefully roast the mustard seeds in slow flame and once its roasted, transfer it in a bowl.Be careful it should not get over roast or burnt.

10.Next, mix the fenugreek seeds and fennel seeds, roast them together. Once both the seeds are roasted grind them together.In between the grinding process, check the consistency.The consistency of grind mix should be coarse.Now transfer the mix in a dry container.

11.Now add roasted mustard ,onion seeds, grinded fenugreek and fennel seeds together.Add salt,turmeric powder,red chili powder and little jaggery to add some sweetness in it.
Mix all of them together.












12.Take around 10-15 garlic cloves in 1 kg mangoes.

garlic cloves













13.Heat appx 250 ml edible oil and heat it. Now add garlic cloves in it and switch off the stove immediately.Let it cool for some time/

14.Now transfer the garlic added preheated oil in all the mix ingredients and stir them well.

Leave the mixture for few minutes.

15.It is time to start adding the mango pieces in the prepared  mixture.Mix the all the ingredients well ,so that mango pieces can soak them well.

mix the ingredients with oil and garlic













Pickle is ready to transfer in a dry container and leave it for 2-3 days.

16.After 2-3 days take 1 liter edible oil (preferably mustard oil) and heat it .Now switch off the flame and let the oil get cold.After some time pour the cold oil in the mango pickle.The pickle should dip in the oil.
mango pieces mixed in all the ingredients













Relish the authentic mango pickle with roti,paratha,snacks or with your meal.


Note :Pickle is an important part of our Indian food techniques.In olden days ,there was  no facility to preserve food items for longer time. The pickle is a great way to preserve food items for years.In India,there are varieties of  pickle prepared and served.The science behind the pickle served with food was ,to get better digestion of the meal.The ingredients of the pickle are the best digestives considered in our traditional food preparation.  

१ किलो कच्चा आम ले कर उसे पानी में डूबा लीजिये। थोड़ी देर बाद आम को बराबर टुकड़ों में काट लें। आम की गुठली को सरोते से काट सकते हैं  और अगर घर पर  चाकू से काट रहें हो तोह इसे छोड़भी  सकते हैं। जब टुकड़े कट जाएँ तब इनके ऊपर नमक और पीसी हल्दी छिड़क कर रात भर छोड़ दें।  सुबह आप देखेंगे कि रात भर में आम के टुकड़ों से सारा पानी निकल चूका है। अब आप निकले हुए पानी को फेंक दें ध्यान रखें कि थोड़ा भी पानी न बचे अच्छी तरह से पानी निकाल  दें।
 अब इन आम के टुकड़ों को पेपर पर फैलाये और पंखे के नीचे थोड़ी देर सूखने के लिए छोड़ दें।  जब तक आम के टुकड़े थोड़ा सुख रहे हो तब तक आप मसालों की तैयारी कर लें।

 १ किलो आम के लिए मसालों की मात्रा -
मेथी दाने - ५० ग्राम
सरसों दाल -१०० ग्राम
सौंफ - ५० ग्राम
प्याज़ के बीज (करायत)-२५ ग्राम
अब सबसे पहले करायत को भून लें और एक कटोरी में खाली कर लें।  फिर सरसों की दाल को धीमी आंच पर भून लें ,थोड़ी सावधानी रखें की यह ज्यादा भून न पाए क्योंकि इससे स्वाद ख़राब हो सकता है।
अब मेथी के दानो और सौंफ को मिलाये और साथ में भून लेन. थोड़ा ठंडा करें और फिर मिक्सी में डाल कर पीस लें। इसे बारीक न पीसें। इसे भी एक कटोरी में खाली कर लें।
१ किलो आम के अचार के लिए १५-२० लहसून की कलियाँ छील लें।
अब २५० मिली लीटर कोई भी खाने का तेल (या सरसों का तेल )  गरम करें। उसमें लहसून की कलियाँ डाल कर गैस  तुरंत बंद कर दें।
अब सभी भुने हुए मसालों को एक बड़े बर्तन में लें  और  स्वाद अनुसार नमक,पीसी हल्दी ,मिर्च पीसी और थोड़ा गुड़ मिठास के लिए डालें। इसमें लहसुन की कलियों वाले कुनकुने तेल  को डाल कर अच्छे से मिलाएं।  अब इसमें आम के टुकड़ों को डाल  कर अच्छे से मिलाएं , ताकि आम के टुकड़े मसालों को अच्छी तरह सोख लें। आम के मिश्रण को एक बरनी में या डब्बे में डाल कर अच्छी तरह बंद करके २-३ दिन तक  छोड़ दें।

२-३ दिन बाद करीब १ लीटर तेल अच्छी तरह गरम करके थोड़ा ठंडा करें और उसे आम के बने हुए अचार में डाल दें। आम का अचार खाने के लिए तैयार है।  इसे आप खाने में,नास्ते में या फिर किसी भी नमकीन के साथ खा सकते हैं।

नोट: अचार बनाना भारतीय खाद्य तकनीक का एक अहम् हिस्सा है। पुराने समय में जब खाद्य संरक्षण के कोई यन्त्र उपलब्ध नहीं थे, तब अचार को खाद्य पदार्थों को संरक्षित करने का एक तरीका था जिसमें कई सालों तक खाने की वस्तुओं को सुरक्षित रखा जा सकता है। अचार में मिले हुए सभी मसाले पाचक की तरह काम करते हैं इसलिए इसे खाने की साथ परोसना खाने में विज्ञानं का प्रयोग दर्शाती है।