The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

FlipKart Offers!!

Buy Online with Discount

Monday, September 22, 2014

Spring onion leaves /प्याज़ भाजी


Ingredient: Spring onion leaves, garlic, tomato, gram pulses,red chilies, salt, water, oil

 
In first step you have to wash the leaves 4-5 times carefully.

Separate the roots with small onion & fine chop the leaves. If you want to add the small onions, chop them carefully too.

Take 7-8 fine chopped garlic cloves and cut one tomato into the pieces.

Heat the oil (small quantity) in a pan .
Once it is properly heated, add chopped garlic, red chilies (1-2), gram lentils (soaked in water for 10 minutes) , mix the tomato pieces and let it cook for few secs.

Add small portion of water in it. Transfer all the chopped spring onion leaves and spread the half a tea spoon salt above it ,cover and cook it for 10 mins in medium flame.

when all the water will vaporized from the pan  , mix them well and cook the leaves for  2-5 min more, until it gives dry texture.
Spring onion leaves are ready to serve with hot rice and daal.

Note : In Chhattisgarh, the dish of spring onion leaves is a most common additional preparation with a main vegetable dish. This leaf is very nutritious and filled with lot of minerals.

सबसे पहले प्याज़ के पत्तों को अच्छी तरह से धोएँ।  जड़ और छोटे प्याज को काट कर अलग कर लें।  और पत्तों को बारीक काट लें।  अगर आप छोटे प्याज को डालना चाहते हैं तोह उनको भी अच्छे से धो कर बारीक काट ले। अब एक कड़ाई में तेल गरम करें।  उसमें लहसुन के कटे हुए टुकड़े , लाल मिर्च, और १० मिनट पहले भीगी हुई चने की दाल को डाल  दे फिर टमाटर के कटे हुए टुकड़ों को मिला कर पकने दें। आधा कप से भी कम पानी डाल कर उबलने दें फिर भाजी को डालें और आधा चम्मच नमक छिड़क कर ढक्कन लगा कर पकने दें । 
थोड़ी देर बाद भाजी में से पानी बहार आने लगेगा और १० मिनट तक मद्धम आंच में  पूरा वाष्पीकृत को जाएगा।  उसके बाद भाजी को  अच्छे से  मिलाएं  और सूखते तक पकाएं।  अब गैस बंद कर दे।  गरमा गर्म भाजी का मजा चांवल के साथ ले। 

नोट: छत्तीसगढ़ में प्रायतः सभी घरों में प्याज़ भाजी बनायीं जाती है।  एक मुख्य सब्जी के साथ भाजी खाने का प्रचलन है।  प्याज़ भाजी बहुत स्वास्थवर्धक और खनिज लवण से भरपूर है। 

Friday, September 12, 2014

Kewachaniya(Rice flour Laddoo)/ केवचनीया (चांवल आटा लड्डू)


Ingredient: Rice flour, jiggery, ghee, cardmom, milk,

 
Heat the ghee in pan and roast the rice flour till it gets light brown.

Take a different utensil and boil the small quantity of water .

Add gud or jiggery,4-5 cardamom in the boiling water and let them get concentrated.

Now check the concentration of the mixture with the 2 fingers.

When it starts giving 2 treads switch off the flame.

In the next step ,you have to start mixing the roasted rice powder with the jiggery (gud) syrup.

You will find difficulties during mixing process because of the nature of rice powder ,which soaks the syrup very fast.

In the next procedure ,you can add raw milk/cold milk in the mixture and heat it for few seconds.

Start making the small balls out of the mixture .for the better look and healthier version you can stick dry fruits on the top of it.

 Note : Kewachaniya is the rarest form of the laddoo .Prepred by rice flour , jiggery and milk make it very healthy .It is full of energy which is mostly given to people does hard work ,kids or pregnant women.
एक कड़ाई में घी गरम करें।  उसमें चांवल का आटा अच्छी तरह से भुने जब तक वह हल्का भूरा  न हो जाए। दूसरे बर्तन में थोड़ा पानी ले कर उबालें और स्वादानुसार गुड  और ४-५ इलाइची  डालकर गर्म करें। घोल को थोड़ा गाड़ा होने दें।  उँगलियों से घोल को छू कर देखें , जब ये दो तार बनाने लगे तो गैस  दें।  अब गुड  की चासनी में भुने हुए  चांवल आटे को  डालें और  अच्छे से मिलाएं ,मिलाते समय थोड़ी दिक्कत  हो सकती है क्योंकि चांवल  आटा जल्दी चासनी सोखता है।  इस मिश्रण में थोड़ा ठंडा दूध  मिलाएं और कुछ सेकंड के लिए गरम करे। अब गैस बंद कर  थोड़ा दूध या पानी लगाकर गोल गोल लड्डू बना ले। अपने मन पसंद मेवे चिपका कर लड्डू  को  स्वादिष्ट बनायें।

नोट:  केवचनीया  बहुत ही पारम्परिक लड्डू है जो की बहुत कम लोगों द्वारा बनाया जाता है।  चांवल,घी,गुड और दूध से बना होने  के कारण बहुत ताकतवर होता है। ज्यादा काम करने वालों,बच्चों और गर्भवती स्त्रियों के लिए फायदे मंद है।