The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

Thursday, December 20, 2018

Chhind/छिन्द

Traditiona chhattisgarh food 

छिंद : छिंद ख़ज़ूर की तरह लेकिन थोड़ा छोटा फल होता है।  छिंद में बीज से चिपकी हुई भूरे रंग की पतली गुदे की परत होती है।  यह एक मीठा फल है जिसकी झाडी होती है और जड़ों को भी खाया जाता है।  बस्तर और अन्य जंगल बाहुल्य जगहों में मुखयतः पाया जाता है। 

Friday, December 7, 2018

Pej/ पेज/पसिया

Pej : When small quantity of grains are cooked with lot of water and drink with salt then the preparation is called Pej .some people use grain flour to make the Pej . It is a healthy drink which gives energy and satisfies the hunger pangs.


पेज : भात (चांवल ) को ज्यादा पानी (अदहन ) के साथ पकाने पर पेज बनता है . लोग अनाज के आटे को घोल कर पका कर पेज बना कर नमक डाल कर पीते हैं . बनाने की विधि में अनाज की मात्रा कम और पानी ज्यादा होता है. पेज से पेट भरा होने का अनुभव और ताकत मिलती है .

Monday, November 26, 2018

Ghughani-Ghughari (घुघनी -घुघरी)

घुघनी -घुघरी :गेहूं को गुड़ के साथ पानी में अच्छी तरह से उबाला जाता है जब तक कि गेहूं के अंदर गुड़ का रस पूरी तरह से घुस न जाये।  इसके बाद इसे ठंडा करके खाया जाता है।

It is a traditional food of chhattisgarh ,which is now days rarely prepared in urban and rural houses.This chhattisgarh dish is prepared with raw wheat and jaggery .You have to boil the wheat in water with jaggery till jaggery syrup will completely enter inside wheat .Then wait till temperature comes down .Once it is cold enough then serve.

Ghughari is a lost Indian traditional recipe which gives energy and increase blood in body..     

Tuesday, November 13, 2018

Patori/patodi /patawadi /gram flour curry

Patori/gram flour curry/patodi /patawadi
Patori

Ingredients
Gram flour-1 big bowl
water-4 big cups
oil
turmeric-1 tablespoon
salt -1 tablespoon
red chili-1 tablespoon
coriander powder-1 tablespoon
cumin seeds
-1 tablespoon
Onion-2
Tomato-1 or 2


1. For this Chhattisgarh traditional Food, heat 2-3 tablespoon of oil in a pan and crackle some cumin seed in it. Add 1/2 table spoons of salt,coriander powder,turmeric powder and chili powder.

2. Add 2 big cups of water and leave it for some time to reach its boiling point. Once water starts boiling add 1 big bowl of gram flour in it and stirs the mixture well, so lump formation can be avoided. After 5-7 minutes you will see that water has evaporated and a concentrated paste of gram flour is ready to prepare Patori3.
3 .Spread few drops of oil evenly on a plate and transfer the gram flour paste in it (plate) and slowly spread it ,leave the paste to get cold and settel.

4 .Meanwhile pour some water in the same pan ,where gram flour paste remains are still stuck and boil the water again.This hot water we can use as gravy later.

5. Now cut the onion and tomatoes  in pieces ,
6. take a 2-3 table spoon of oil in the pan and heat it . Add chopped onion ,1/2 table spoon ginger garlic paste (optional) and cook it till onion turns golden brown . Now add chopped tomatoes (optional) and cook for 2 minutes. Add salt, turmeric powder, chili powder, coriander powder and mix them well and leave it to cook for few more minutes again .

7.Once you find the mixture is cooked then add that hot water, which we had prepared earlier and let it boil for some time.

8. By this time, gram flour paste must have got settle on the plate, cut it into the diamond or square pieces. Add these pieces in the boiling water and cover the lid.

9. Let the mixture boil thoroughly, open the lid and add some fresh chopped coriander leaves. Cook it again for some time. Traditional dish patori is ready to serve.

Note : This traditional Chhattisgarh recipe is also known as patodi or patawadi rasaa in different states of India .Patori is made by gram flour and it is completely protein rich preparation

For complete recipe watch Patori Video 
https://www.youtube.com/watch?v=CSs2G6jm8LE
Granm Flour
Paste 



Pieces of gram flour paste 
curry mix


ready curry
Patori -Chhattisgarh Cuisine 



सबसे पहले एक कड़ाई में २-३ चम्मच तेल लें और गरम करें।  जब तेल गरम हो जाये तो थोड़ा जीरा डालें फिर १/२ चम्मच नमक,हल्दी पाउडर,धनिया पाउडर ,मिर्ची पाउडर डालें और करीबन २ बड़े कप पानी का डाल कर उबलने के लिए छोड़ दें।  जब पानी उबलने लगे तब २ कटोरी बेसन डालें और तुरंत ही अच्छे से मिलाएं ताकि बेसन की गाँठ न बन सके।  थोड़ी देर तक अच्छे से मिलते रहे जब तक पानी न उड़ जाये और बेसन का गाढ़ा पेस्ट तैयार हो जाये।
 एक थाली में थोड़ा तेल फैलाएं और बेसन के पेस्ट को इसमें अच्छे से फैलाएं। इसे थोड़ी देर तक ठंडा होने के लिए रखे ताकि यह अच्छे से जम जाये। जब जम जाये तो छोटे टुकड़ों में काट लें।

अब कड़ाई में थोड़ा और पानी डाल कर उसे गरम करें और एक दूसरे बर्तन में रख लें। इस गरम पानी को हम बाद में रस बनाने के लिए उपयोग में लाएंगे।

अब प्याज़ और टमाटर को काट लें ,चाहे तोह आप इनका पेस्ट भी बना सकते हैं।
अब कड़ाई में २-३ चमच्च तेल गरम करें और कटे प्याज़ और लहसून -अदरक का पेस्ट (स्वादानुसार)को डाल कर भुने जब यह थोड़ा सुनहरा हो जाये तब कटे हुए टमाटर डाल  कर अच्छे से भून लें। अब १/२ चम्मच नमक,हल्दी पाउडर,धनिया पाउडर ,मिर्ची पाउडर डालें और पहले से उबले हुए गरम  पानी को  डाल कर उबलने के लिए छोड़ दें। जब पानी उबलता रहे तब इसमें बेसन के कटे हुए टुकड़ों को डाल कर ढँक दें और पकने दें। जब पानी थोड़ा गाढ़ा होने लगे तब इसे बंद कर दें। पारम्परिक पतोरी की सब्जी तैयार है।

नोट : यह एक पारम्परिक विधि है बेसन से सब्जी बनाने के। बहुत से अलग अलग प्रांतों में यह अपने तरीको से बनायीं जाती है और छत्तीसगढ़ में भी यह पसंद की जाती है।  यह पूरी तरह से प्रोटीन से भरपूर है और चांवल या रोटी के साथ बहुत स्वादिष्ट होती है।  इसे पतोड़ि या पतावड़ी रसा के नाम से भी जाना जाता है।








Monday, October 29, 2018

water spinach-kangkong-karmatta bhaji(करमत्ता भाजी)


water spinach-kangkong-karmatta bhaji
करमत्ता भाजी  is very famous Chhattisgarh traditional food.I t is also known as water spinach across world and famous as kangkong in China & south Asian countries. It has many health benefits once grown is good water. \

Ingredients:

 Karmatta (water spinach/kangkong) Leaves
Gram Lentil
Dry Red Chilies
karmatta bhaji recipe
Garlic Cloves
Oil
salt









Recipe:



1. Take karmatta(water spinach/kangkong)leaves bunch.

2. These leaves are long & soft, pluck the leaves, do the screening of healthy leaves and segregate them from the stem.

3. Once the process of plucking gets over, take water in a bucket or big pan, to wash the leaves thoroughly. Wash them 2-3 time so all the mud n soil will get removed.
Sometimes it is grown close to mud areas, that why you will find a layer of mud on the roots. One has to wash the leaves multiple times. Take out the leaves from the bucket and keep in the basket once leaves are clean completely.

4. Now, take a handful of gram lentils, wash it 1-2 times and pour little water in a cooker.

5. Transfer the Karmatta (water spinach) leaves in the same cooker and close the lid, put the cooker on the flame till 1to 2 whistles. Switch off the burner and now wait till cooker pressure comes down to normal.


6.Meanwhile , take some dry chilies and 8-10 garlic cloves and chop them in small pieces.

7.Take 2-3 spoons of oil in a pan, once oil becomes hot, seasoned with chopped garlic cloves and red chilies.

8. Open the cooker lid and check the boil leaves with gram lentils. Now transfer whole preparation into the pan with the seasoning and blend it well.

9. Now spread some salt as per taste and cover the lid of the same pan and cook for 4-5 minutes more, till the water gets evaporated.

9. Open the lid and mix the leaves well again and switch off the flame.

10. You can enjoy the authentic chhattisgarh cuisine of Karmatta bhaji which is quite famous internationally, as water spinach with steamed rice and daal.

Note: Karmatta bhaji(water spinach/kangkong)is one of the signature leafy preparation from Chhattisgarh Recipes. It mostly naturally grew close to water body like a pond but we should always use clean water for water spinach or kangkong .karmatta bhaji contains diabetes control quality.


करमत्ता भाजी या किंगकॉन्ग  या वाटर स्पिनच के नाम से दूसरे देशों में जाना जाता है।  छत्तीसगढ़ में इसे बड़े चाव से खाया जाता है और गर्मियों में ज्यादातर मिलता है।  इसे बनाने के लिए सबसे पहले अच्छे -अच्छे पत्तों को छांट लें और  तने से अलग कर लें।   अब जब अच्छे पत्तों को अलग किया गया है उन्हें पानी में डूबा कर २-३ बार धोएं ,जिससे उसमें चिपकी हुई सारी मिटटी अच्छे से निकल जाये।याद रखें जब भी करमत्ता भाजी खरीदें देख लें की बहुत ज्यादा मिटटी से लतपथ न हो हमेशा साफ़ सुथरी भाजी का प्रयोग करें और पूछ लें कि अच्छे पानी की फसल हो.

अब एक कुकर में मुट्ठी भर चना दाल ले कर अच्छे से धो लें और इसमें  करमत्ता भाजी डाल कर और

स्वादअनुसार नमक छिड़क कर, उसे १-२  सिटी होने तक उबाल लें।  जब  सिटी हो जाये तो गैस बंद करें और कुकर ठंडा होने का इंतज़ार करें।
२-३ सुखी लाल मिर्च और लहसून की कलियाँ छोटे छोटे टुकड़ो में काट लें।  एक कड़ाही में २-३ चम्मच तेल डालें और गरम होने दें। जब गरम हो जाये तो उसमें कटी हुई लहसून और मिर्च डालें और कुकर खोल कर उबली हुई भाजी और चने की दाल को कड़ाई में पलटें।  सभी को ठीक तरह से मिलाएं  थोड़ी देर के लिए ढक  कर पकाएं। ५ मिनट के बाद ढ़क्कन खोल कर अच्छी तरह से मिलाएं और पानी को सूखने दें।  और गैस को अब बंद कर दें।

नोट : करमत्ता भाजी  के बहुत सारे स्वास्थ  से सम्बन्धित फायदे हैं अगर यह अच्छे पानी में उगाई जाये।  बहुत सारे लोगों को दूषित पानी में उगे होने के कारण  नुकसान  भी कर सकती है।  इसमें शुगर रोग को कम करने के गुण रहते हैं।  

Thursday, October 25, 2018

Nanki badi/Mini lentil balls

moong or udad badi
Nanki Badi/Mini lentil balls :Nanki badi is dry mini lentil balls.It is a great source of protein and made with black grams or green gram lentils (preferably dehusked).We can store it for years and blend with any vegetable curry.In Chhattisgarh people add nanki badi (mini lentil balls)in curd preparations like kadhi.



Wednesday, October 10, 2018

Chunchuniya bhaji-teenpaniya bhaji /चुनचुनिया भाजी- तीनपनिया भाजी

Chunchuniya bhaji-teenpaniya bhaji 
Chunchuniya bhaji(teenpaniya bhaji )

Ingredients:

ChunChuniya bhaji (Leaf)
Gram Lentil
Dry Red Chilies
Garlic Cloves
Oil
salt

Recipe :


1. For this Chhattisgarh cuisine, take Chunchuniya leaves also known as Teen Paniya Bhaji.

2. These leaves are very soft including its stem, do not pluck the leaves, we just do the screening of healthy leaves and segregate them.

3. Once the process of segregation gets over, take water in a bucket or a big pan, to wash the leaves thoroughly. Wash them 2-3 time so all the mus n soil will get removed. Take out the leaves from the bucket and keep in the basket.

चुनचुनिया भाजी- तीनपनिया भाजी
4. Now for this Chhattisgarh traditional food recipe, take handful gram lentil to wash it 1-2 times and pour little water in a cooker.O once you close the lid, put the cooker on the flame till 1-2 whistles. Now, wait till cooker pressure come down to normal.

5. Now open the cooker lid, transfer the leaves in the same cooker with the boil lentils and give one more whistle again.

6. Meanwhile, take some dry chilies and 8-10 garlic cloves and chop them in small pieces.

7. Take 2-3 spoons of oil in a pan, once oil becomes hot, seasoned with chopped garlic cloves and red chilies.

8. Open the cooker lid and check the boil leaves with gram lentils. Now transfer the whole preparation  into the pan with the seasoning. Mix them well so blending will be nice. Spread some salt as per taste and cover the lid and cook for 4-5 minutes more.

9. Open the lid and mix the leaves well and switch off the flame.

10. You can enjoy the authentic Chhattisgarh dish of Chunchuniya bhaji with steamed rice and daal.

Note: Chunchuniya bhaji or Teenpaniya bhaji is one of the signature leafy preparation of Chhattisgarh.It is most naturally grown close to water body like a pond.This leaves are a very delicate but powerful source of fibre and minerals.

For full recipe watch our youtube video chunchuniya bhaji-teenpaniya bhaji (https://www.youtube.com/watch?v=w7kvriuneOU&t=3s)






चुनचुनिया भाजी या तीन पनिया भाजी बनाने के लिए सबसे पहले अच्छे -अच्छे पत्तों वाली भाजी को छांट लें. ये भाजी बहुत ही मुलायम होती है इसलिए इसकी डंडी को नहीं निकालेंगे. अब जब अच्छे पत्तों को अलग किया गया है उन्हें पानी में डूबा कर २-३ बार धोएं ,जिससे उसमें चिपकी हुई सारी मिटटी अच्छे से निकल जाये।

अब एक कुकर में मुट्ठी भर चना दाल ले कर अच्छे से धो लें और उसे १ सिटी होने तक उबाल लें।  जब १ सिटी हो जाये तो कुकर ठंडा होने का इंतज़ार करें और जब ठंडा हो जाये तब कुकर खोल कर चुनचुनिया भाजी को डालें और ढक्कन बंद करके फिर से एक सिटी दें।
२-३ सुखी लाल मिर्च और लहसून की कलियाँ छोटे छोटे टुकड़ो में काट लें।  एक कड़ाही में २-३ चम्मच तेल डालें और गरम होने दें। जब गरम हो जाये तो उसमें कटी हुई लहसून और मिर्च डालें और कुकर खोल कर उबली हुई भाजी और चने की दाल को कड़ाई में पलटें।  सभी को ठीक तरह से मिलाएं और स्वादअनुसार नमक छिड़क कर थोड़ी देर के लिए ढक  कर पकाएं। ५ मिनट के बाद ढ़क्कन खोल कर अच्छी तरह से मिलाएं।  और गैस को अब बंद कर दें।

नोट : चुनचुनिया भाजी कुछ ही जगह खायी जाती है उसमें से छत्तीसगढ़ एक है।  यह ज्यादातर तालाब के आस पास उगती है.यह छोटी सी दिखने वाली पत्तियां खनिज लवण और फाइबर से भरी होती है। तीन पनिया भाजी की पत्तियां स्वाद में मिठास लिए होने के कारण पकने के बाद स्वादिष्ट होती हैं।