The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

FlipKart Offers!!

Buy Online with Discount

Tuesday, November 13, 2018

Patori/patodi /patawadi /gram flour curry

Patori/gram flour curry/patodi /patawadi
Patori

Ingredients
Gram flour-1 big bowl
water-4 big cups
oil
turmeric-1 table spoons
salt -1 table spoons
red chili-1 table spoons
coriander powder-1 table spoons
cumin seeds
-1 table spoons
Onion-2
Tomato-1 or 2


1.Heat 2-3 table spoons of oil in a pan  and crackle some cumin seed in it.Add 1/2 table spoons of salt,coriander powder,turmeric powder and chili powder.

2.Add 2 big cups of water and leave it for sometime to reach its boiling point. Once water start boiling add 1 big bowl of gram flour in it and stir the mixture well ,so lump formation can be avoided.After 5-7 minutes you will that water has evaporated and a concentrated paste of gram flour is ready to prepare patori.

3.Spread few drops of oil evenly on a plate and transfer the gram flour paste in it (plate) and slowly spread it,leave the paste to get cold and settel.

4.Meanwhile pour some water in the same pan ,where gram flour paste remains are still stuck and boil the water again .This hot water we can use as gravy later.

5.Now cut the onion and tomatoes  in pieces ,
6. take 2-3 table spoon of oil in the pan and heat it .Add chopped onion ,1/2 table spoon ginger garlic paste (optional) and cook it till onion turns golden brown . Now add chopped tomatoes (optional) and cook for 2 minutes. Add salt,turmeric powder,chili powder,coriander powder and mix them well and leave it to cook for few more minutes again .

7.Once you find the mixture is cooked then add that hot water ,which we had prepared earlier and let it boil for some time.

8.By this time, gram flour paste must have got settle on the plate,cut it into the diamond or square pieces.Add these pieces in the boiling water and cover the lid.

9. Let the mixture boil thoroughly ,open the lid and add some fresh chopped coriander leaves.Cook it again for some time.Traditional dish patori is ready to serve.

Note : This traditional recipe is also known as patodi or patawadi rasaa in different states of India .Patori is made by gram flour and it is completely protein rich preparation

For complete recipe watch Patori Video 
https://www.youtube.com/watch?v=CSs2G6jm8LE

   


 

 


सबसे पहले एक कड़ाई में २-३ चम्मच तेल लें और गरम करें।  जब तेल गरम हो जाये तो थोड़ा जीरा डालें फिर १/२ चम्मच नमक,हल्दी पाउडर,धनिया पाउडर ,मिर्ची पाउडर डालें और करीबन २ बड़े कप पानी का डाल कर उबलने के लिए छोड़ दें।  जब पानी उबलने लगे तब २ कटोरी बेसन डालें और तुरंत ही अच्छे से मिलाएं ताकि बेसन की गाँठ न बन सके।  थोड़ी देर तक अच्छे से मिलते रहे जब तक पानी न उड़ जाये और बेसन का गाढ़ा पेस्ट तैयार हो जाये।
 एक थाली में थोड़ा तेल फैलाएं और बेसन के पेस्ट को इसमें अच्छे से फैलाएं। इसे थोड़ी देर तक ठंडा होने के लिए रखे ताकि यह अच्छे से जम जाये। जब जम जाये तो छोटे टुकड़ों में काट लें।

अब कड़ाई में थोड़ा और पानी डाल कर उसे गरम करें और एक दूसरे बर्तन में रख लें। इस गरम पानी को हम बाद में रस बनाने के लिए उपयोग में लाएंगे।

अब प्याज़ और टमाटर को काट लें ,चाहे तोह आप इनका पेस्ट भी बना सकते हैं।
अब कड़ाई में २-३ चमच्च तेल गरम करें और कटे प्याज़ और लहसून -अदरक का पेस्ट (स्वादानुसार)को डाल कर भुने जब यह थोड़ा सुनहरा हो जाये तब कटे हुए टमाटर डाल  कर अच्छे से भून लें। अब १/२ चम्मच नमक,हल्दी पाउडर,धनिया पाउडर ,मिर्ची पाउडर डालें और पहले से उबले हुए गरम  पानी को  डाल कर उबलने के लिए छोड़ दें। जब पानी उबलता रहे तब इसमें बेसन के कटे हुए टुकड़ों को डाल कर ढँक दें और पकने दें। जब पानी थोड़ा गाढ़ा होने लगे तब इसे बंद कर दें। पारम्परिक पतोरी की सब्जी तैयार है।

नोट : यह एक पारम्परिक विधि है बेसन से सब्जी बनाने के। बहुत से अलग अलग प्रांतों में यह अपने तरीको से बनायीं जाती है और छत्तीसगढ़ में भी यह पसंद की जाती है।  यह पूरी तरह से प्रोटीन से भरपूर है और चांवल या रोटी के साथ बहुत स्वादिष्ट होती है।  इसे पतोड़ि या पतावड़ी रसा के नाम से भी जाना जाता है।








No comments :

Post a Comment