The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

FlipKart Offers!!

Buy Online with Discount

Thursday, November 24, 2016

Fulha chila (pumpkin flower salted pan cake)/फुलहा चीला (कुम्हड़े(कद्दू ) के फूल चीला)

Fulha chila (pumpkin flower salted pan cake)/फुलहा चीला
Fulha chila is rarely made snacks in Chhattisgarh.It is made of fresh pumpkin flowers.
 
Ingredients:Pumpkin flowers ,onion,gram flour, green chili or red chili powder,cumin powder,coriander leaves,turmaric leaves,water,oil

Take 10-12 pumkin flowers n chopped it minutely.

Take 1-2 bowl gram flower and add chopped flower . Add  chopped onion , salt,turmeric, chopped green chili or red chili powder,cumin powder, freshly chopped coriander leaves.

Add water & mix well all of the ingredients , the consistency of the paste would be thinner.

Heat a pan and sprinkle oil on it ,with the help of a spoon spread the paste in round shape. Now cover it and cook it for 2 -3 mins in medium flame.

Open the cover and wait for second and sprinkle the oil on the top and try to change the side of chila /pan cake and cook it until it gets the dark yellow or brown colour.

Once fulha chila is ready,one can enjoy it with green chantney over the tea.

 
Note : We should appreciate our traditions, where all kind of thoughtful recipes are available. Fulha chila is nice way to consume protein & one of the highly nutrition part of the plant that is “flower”. Same preparation can be  done with drumstick flowers.

फुलहा चीला अपने तरह की विशेष रेसिपी है, जो बहुतायत में नहीं बनाया जाता। ये कुम्हड़े(कद्दू ) के फूलों से बनाया जाता है या फिर मुनगे  का फूल भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 
सबसे पहले १०-१२ कुम्हड़े के फूलों को धो लें  और बारीक़ काटें। प्याज़ और धनिया को भी बारीक़  काट लें। अब एक कटोरे में बेसन लेंऔर कटे हुए फूलों , कटी प्याज़ ,धनिया के पत्तों ,नमक,धनिया पाउडर, कटी हरी मिर्च  या   लाल मिर्च पाउडर को पानी  डाल कर अच्छे से मिलाएं और पतला घोल तैयार करें। एक तवा लें और गरम करें। अब थोड़ा  तेल  छिड़कें और घोल को  गहरे चमच्च में  लेकर फैलाएं। अब इसे डाक कर मध्यम आंच पर पकने दें। थोड़े देर बाद ढक्कन उठाएं और २ सेकेण्ड के बाद ऊपर से तेल छिड़क कर दूसरी तरफ से पलट कर थोड़ी देर पकने दें।  जब थोड़ा सुनहरा भूरा हो जाये तो निकाल कर प्लेट में रखें और हरी चटनी के साथ मज़े से खाएं। 

टिपण्णी : हमारे पारंपरिक खान पान के तरीके बहुत सोच समझ के बनाये  गए हैं।  फुलहा चीला बहुत ही अच्छी  विधि हैं जिसमें दाल  और पौधे के फूल जैसे पौष्टिक  भाग को एक साथ मिलाकर खाया जाता हैं। यह तरीका मुनगे के  फूलों के साथ भी किया जा सकता है। 

No comments :

Post a Comment