The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

FlipKart Offers!!

Buy Online with Discount

Thursday, March 29, 2012

Dehrori (देह्रोरी)

Ingredients : rice,curd,ghee (butter),sugar,water, cardamom powder
Soke 2 cups of rice for 5-6 hrs.
Once its soaked completely drain all the water from it.
Grind the rice coarsely and transfer it in the bowl.
Mix half cup of curd into the bowl and knit the coarsely grinded rice with it.
Leave the dough for whole night for fermentation
Next day,take pure ghee or butter in pan & heat it properly on the stove .
Parallel, start making flat dumplings or balls out of the fermented dough.
Deep Fry the dumplings or balls in the well heated ghee or butter until both sides turn red or brown in color.
Take 4-5 cups of sugar in the pot and mix with 2 cups of water and heat it on the stove .
Add cardamom cloves or powder for the flavor .
When syrup turned thick check with fingers that you can make 1-2 strings out of it.
Pour the sugar syrup on the fried dumplings and leave it, until its soaked .
You can garnish it with nuts and serve to guests.
(This dish is traditionally prepared on big festival like deewali and equally considered as gullabjamun)

२ कप चावल लेकर उसे ५-६ घंटे तक भिगो दिजीये. जब चावल अच्छी तरह से भीग जाए तब सारा पानी छान लें और सूखे चावल को मिक्सी में लेकर खुरदुरा पिस लिजीये.अब एक बर्तन में पिसे हुए चावल को लेकर उसमें आधा कप दही मिला कर अच्छी तरह से गूँथ लीजीये. अब गुथे आटे को रात भर खमीर के लिए छोड़ दीजिये.दुसरे दिन कड़ाई में शुद्ध घी या मक्खन ले कर गरम किजीये और साथ साथ आटे से छपते छपते गोले बनाना शुरू करीए. जब घी अच्छी तरह से गरम हो जाए तब छपते गोलों को अच्छी तरह तल लें जब तक की दोनों तरफ लाल न हो जाए .अब एक पतीले में ४-५ कप शक्कर लें और २ कप पानी के साथ घोल कर उसे गरम करें स्वाद के लिए इलाइची पावडर डालें और अच्छे से गरम होने दें , जब घोल गाढ़ा होने लगे तब अपनी उन्ग्लिओं से चासनी की १-२ तार बना कर देखें अगर बन रही है तोह चासनी को उतार लें. इस चासनी में तले हुए छपते गोलों को दाल कर छोड़ दें ताकि अच्छी तरह से भीग सके. और जब भीग जाए तोह सजाकर मेहमानो के साथ खुद भी मज़े लें.

(देह्रोरी ग्रामीण जगहों पर खास मौकों जैसे दीवाली पर बनाई जाती है और आप इसे गुलाब जामुन की श्रेणी में रख सकते हैं)

1 comment :