The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

FlipKart Offers!!

Buy Online with Discount

Thursday, January 21, 2016

Bottlegouard pudding/laouki ka halwa/लौकी का हलवा


Take small bottle gourd and take off the outer green layer.

Cut into the small columns and remove the inner seeds .

Start scrapping the bottle gourd with the help of scrapper.

Take 1 litter of milk in a pan and add scrapped bottle gouard in it .

Let it cook for 5-7 mins in medium flame.After some time add sugar as per your taste and 3-4 cardamom cloves.
*If you want to replace sugar with  jiggery ,then take little portion of water and add small pcs of jiggery .Heat it for sometime until the solution gets little thicker . Let it get cold for some time and add it in the halwa ..

Cook for 10-15 mintues until the mixture gets little dry .

In between stir them frequently.

Once its dry and giving texture of halwa ,switch of the flame add 2 spoons of ghee in it.

Yummylacious bottle gourd halwa is ready to serve.

 Note :Bottle gourd is reach in all neutrinos.
 
सबसे पहले लौकी का ऊपरी छिलका निकल लें।  अब लौकी को लम्बे टुकड़ों में काट लें।  लौकी के बीच के बीजों को अलग कर लें।  अब लौकी को कद्दूकस कर लें।  एक पतीले में १ लीटर दूध लें।  दूध में कदूकस किया हुआ लौकी को मिलाएं और गैस पर गरम करने को चढ़ा दें।  अब मिश्रण में स्वादानुसार शक्कर मिलाएं और २-३ इलायची छीलकर दाल दें।  १०-१५ मिनट तक माधय्म आंच में पकने दें और बीच बीच में चम्मच चलाते रहें।  जान पाक कर सूखने लगे और हलवा की तरह दिखने लगे तब गैस बंद करें।  स्वाद अनुसार १-२ चम्मच घी डालें। 
*अगर आपको शक्कर की जगह गुड़ का उपयोग करना है , तो एक अलग पतीले में थोड़ा पानी लेकर गुड़ के छोटे छोटे टुकड़े  डाल कर गरम करें। जब मिश्रण थोड़ा  गाढ़ा  हो जाए तो इसे ठंडा करें और कुछ देर बाद हलवे में मिला दें।   बाद में अच्छी तरह से मिलाकार थोड़ा और पकाएं।
 
नोट: लौकी पौष्टिकता से भरा हुआ होता है लौकी का हलवा बच्चे भी बहुत आसानी से खा सकते हैं। 
 

 

 

No comments :

Post a Comment