The State of Chhattisgarh is known as rice bowl of India and follows a rich tradition of food culture .The Food preparation falls in different categories . Most of the traditional and tribe foods are made by rice and rice flour , curd(number of veg kadis) and variety of leaves like lal bhaji,chech bhaji ,kohda , bohar bhaji. Badi and Bijori are optional food categories also Gulgula ,pidiya ,dhoodh fara,balooshahi ,khurmi falls in sweet categories.

Jai Sai Baba

Search More Recipes

FlipKart Offers!!

Buy Online with Discount

Monday, June 20, 2016

lotus sticks,kamal kakdi,dens curry/कमल ककड़ी या डेंस सब्जी


In Chhattisgarh lotus stem is very famous.Its highly nutritious and can be eaten in cooked or raw form.
Ingredients: 
3-4 lotus stems,
 gram Lentils, 
salt,
turmeric powder, 
red chilli powder ,
coriander powder, 
onions, 
tomatoes,
cardamoms , 
bay leaves , 
oil, 
cumin powder, 
ginger garlic paste 
water

1.Peel the outer brown cover of lotus stem roughly and cut in small round shape.

2.Transfer in the cooker with small quantity of gram lentils ,add little water,salt ,turmeric powder and give 5-6 vessel to it.

3.In other pan take 2-3 spoon of cooking oil .
fry cardamom cloves , bay leaves and add fine chopped onion or onion paste .

4.Add half table spoon of ginger garlic paste in it .once onion turns light brown add fine chopped or paste of tomato.Next 3-4 minutes let them cook nicely .

5.Once oil will start coming out from the mixture add salt as per your taste with turmeric powder ,red chili powder,coriander powder  and cook them for some time .

6.Meanwhile boil some water to make curry.

7.Once you find nice smell of cooked masala, add boiled lotus sticks with gram lentils,mix them well together.Now add  some hot water.Cover it and cook for some more time .

8.Check if, gravy is little concentrated sprinkle cumin powder ,freshly chopped coriander leaves n mix the curry well. Now, switch off the flame lotus stem /Dhens curry is ready to serve.

Note : Lotus stems are very healthy and rich with minerals ,very good for bones ,fibrous and good antioxidant.
छत्तीसगढ़ में डेंस बहुत स्वाद से खायी जाती हैं। इसे कच्चा सलाद के रूप में या पका कर सब्जी के रूप में खायी जाती है। 
डेंस को पहले धो कर छील लें।  अब उसे गोल गोल काट लें।  कटे हुए डेंस को कुकर मे चने की दाल के   साथ डालें और थोड़ा पानी डाल  कर थोड़ा नमक ,हल्दी उबलने के लिए चढ़ा दें।  जब ५-६ सिटी हो जाए तब उतार  लें।  एक दूसरी कड़ाई  में २-३ चमच्च तेल गरम करें। जब तेल गरम हो जाए तब इलाइची  और तेज पत्ता डालें फिर बारीक कटी प्याज़  और लहसून अदरक का पेस्ट डाल  कर भून लें। जब पेस्ट थोड़ा भूरा हो तब बारीक़ कटे टमाटर या पिसे टमाटर डालें और भून लें। भुनाने पर नमक स्वादानुसार ,,पीसी धनिया ,पीसी हल्दी ,पीसी मिर्ची डालें और थोड़े देर और भून  लें. जब मसाले में से तेल बहार आने लगे तब कुकर में उबले हुए डेंस चने की दाल और साथ के गरम  पानी  को मिला लें और ढँक कर पका  लें। थोड़ी देर बाद जब डेंस और दाल थोड़े गाढ़े हो जाएँ तब गैस बंद कर लें।  ऊपर   से पिसा हुआ जीरा पाउडर और बारीक़ कटी  धनिया पत्ती डालें।  डेंस या कमल ककड़ी की सब्जी गरम चाँवल के साथ परोसें।   
नोट : कमल ककड़ी या डेंस बहुत ही पोषक और खनिज लवन् से भरे होते है।  हड्डियों के लिए बहुत लाभकारी ,रेशेदार और अच्छे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। 



No comments :

Post a Comment